जयपुर में भिखारियों के लिए खुलेगा देश का पहला स्किल सेंटर, गहलोत सरकार की बड़ी पहल

राजस्थान में भिखारियों के पुनर्वास के लिए गहलोत सरकार बड़ा कदम उठाने जा रही है. राज्य सरकार की ओर से भिक्षावृत्ति में लिप्त लोगों के लिए पुनर्वास केंद्र खोलने जा रही है. 

जयपुर में भिखारियों के लिए खुलेगा देश का पहला स्किल सेंटर, गहलोत सरकार की बड़ी पहल
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: राजस्थान में भिखारियों के पुनर्वास के लिए गहलोत सरकार बड़ा कदम उठाने जा रही है. राज्य सरकार की ओर से भिक्षावृत्ति में लिप्त लोगों के लिए पुनर्वास केंद्र खोलने जा रही है. इसकी शुरुआत राजधानी जयपुर से की जाएगी. सबसे पहले पीपीपी मोड पर सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से इस पहल की शुरुआत होगी. इस योजना के अंतर्गत भिक्षावृत्ति में लिप्त लोगों को स्किल ट्रेनिंग दी जाएगी. उन्हें रोजगार के अवसर मिल सके और निर्धन लोग भीख मांगने के लिए बेबस ना हो. 

भिखारियों के लिए पुनर्वास केंद्र खुलने वाला राजस्थान देश में पहला राज्य होगा. सबसे बड़ी बात यह भी है कि पिछले गहलोत सरकार में विधानसभा में भिखारियों और निर्धन व्यक्तियों का पुनर्वास अधिनियम बनाया गया था. अब गहलोत सरकार ही इस अधिनियम को लागू करने जा रही है.

प्रदेश के सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का कहना है कि भिखारियों के पुनरुत्थान के लिए राज्य सरकार यह कदम उठा रही है. जगह-जगह देखने को मिलता है कि कई लोग भीख मांगने के लिए विवश रहते हैं उनके पास कोई रोजगार नहीं होता, जिसके लिए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है कि उनके लिए पुनर्वास केंद्र खोले जाएं.

पिछली बार जब गहलोत सरकार सत्ता में आई थी तब यह अधिनियम लागू किया गया था. उनके पुनर्वास के साथ-साथ अब राज्य सरकार उनमें स्किल भी तराशने का काम करेगी. ऐसा पहला मौका है जब देश में कोई राज्य भिखारियों का पुनर्वास के लिए योजना बना रहा है. पहले जयपुर से इस योजना की शुरुआत की जाएगी इसके बाद में पूरे प्रदेश में इसे लागू किया जाएगा.

राज्य सरकार की इस पहल से ना केवल निर्धन व्यक्तियों को रोजगार के अवसर मिल पाएंगे बल्कि भिक्षावृत्ति में लिप्त लोगों का भविष्य भी सुधर पाएगा. ऐसे उम्मीद यही है कि जल्द से जल्द इस योजना की शुरुआत होगी.