close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सोजत में 'लव पाकिस्तान' लिखा गुब्बारा मिला, पुलिस ने बच्चों से की पूछताछ

दो नाबालिग बच्चों द्वारा गुब्बारों बेचते देख लोगों ने पुलिस को दी सूचना

सोजत में 'लव पाकिस्तान' लिखा गुब्बारा मिला, पुलिस ने बच्चों से की पूछताछ
पुलिस ने बच्चों से पूछताज के बाद पिता को किया गिरफ्तार (फाइल फोटो)

सुभाष रोहिसवाल/पाली: प्रदेश के पाली जिले के सोजत कस्बे में दो नाबालिगों राष्ट्र विरोधी नारे लिखे गुब्बारे बेचने से एक बरगी सनसनी फ़ैल गयी, लोगों को पता लगा तो पुलिस को सूचना दी, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों बाल अपचारी को संरक्षण में लिया और गुब्बारे बरामद क्र पूछताछ की गयी, बच्चों ने बताया की उसके पिताजी ने उसे बेचने के लिए दिए इस पर पुलिस ने उनके पिता को धारा 151  में फिलहाल गिरफ्तार किया है. 

साथ ही पुलिस इस बारे में पूछताछ कर रही की बच्चे ये गुब्बारे कहां से लाये. इससे पहले कुछ महीनो पहले पाली में भी ऐसा मामला सामने आया जिसमे गुब्बारे जोधपुर से लाया जाना बताया गया था. वहीं खबर के मुताबिक सोजत कसबे के मरुधर केशरी मार्ग पर दो नाबालिग गुब्बारे बेच रह थे, लेकिन भी नहीं पता की इन गुब्बारों पर लिखा क्या है.

वहीं लोगो की मानें तो जब उनकी नजर गुब्बारों पर पड़ी तो दंग रह गए, गुब्बारों पर राष्ट विरोधी नारे लिखे थे. जिसके बाद लोगो ने पुलिस को सूचना दी और मौके पर पुलिस ने आकर बच्चो को थाने ले गयी पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया लेकिन उसके पिताजी को गिरफ्तार कर लिया क्योंकी ये गुब्बारे उसके पिताजी ही जोधपुर से खरीदकर लाये थे, फिलहाल पुलिस पूछताछ कर रही. 

गौरतलब है कि ऐसा ही मामला पांच महीने पहले पाली शहर में सामने आया था लेकिन पुलिस ने उसे सामान्य समझकर ठन्डे बास्ते में डाल दिया. लेकिन सवाल ये उठता है की शांति प्रिय राजस्थान में अब पड़ोसी देश की घुसपैठ बढ़ती जा रही लेकिन सरकार और खुफिया बेअसर नजर आ रहे है. पहले राजस्थान में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने की बात सामने आयी तो अब पाकिस्तान लव नारे लिखे गुब्बारे बिकने को बाजार में आ गये.  

वहीं हिन्दु संगठनों ने इस घटना को राष्ट्र विरोधी गतिविधि की आशंका जताते हुए पुलिस में मामला दर्ज करवाकर गहनता से जांच की मांग रखी है. यहां तक की आसपास के लोगों ने भी पुलिस से गहनता से जांच की मांग की है. उनका कहना है कि ऐसा न हो की प्रशाशन और खुफिया तंत्र की लापरवाही बड़ी कीमत देश को चुकानी पड़ जाए.