Sikar के युवाओं की पहल को लगे पंख, अभियान में जुड़े 200 से अधिक युवा

सीकर के अजीतगढ़ के 15 युवाओं ने जनवरी 2015 में ठानी की गांव की साफ-सफाई की जाए और गांव को हरा भरा करने के लिए पौधारोपण किया जाए.

Sikar के युवाओं की पहल को लगे पंख, अभियान में जुड़े 200 से अधिक युवा
अजीतगढ़ में युवाओं की अनूठी पहल.

Sikar: राजस्थान के सीकर (Sikar News) के अजीतगढ़ के 15 युवाओं का गांव की तस्वीर बदलने की पहल की है. इन युवाओं ने गांव में साफ-सफाई से लेकर गांव के विकास में अहम भूमिका निभाई है. एक दिन गांव के नाम से शुरू की गई पहल को इस कदर पंख लगे कि आज अजीतगढ़ ही नहीं आस-पास के गांवों के सैकड़ों युवा इन युवाओं के साथ जुड़े और अपने-अपने गांवों में साफ-सफाई, पौधारोपण सहित अनेक समाज उत्थान को फलीभूत कर रहे हैं. 

यह भी पढ़ेंः Rajasthan Roadways में होगी नई बसों की खरीद, बढ़ाई जाएंगी मूलभूत सुविधाएं

सीकर के अजीतगढ़ के 15 युवाओं ने जनवरी 2015 में ठानी की गांव की साफ-सफाई की जाए और गांव को हरा भरा करने के लिए पौधारोपण किया जाए. साथ ही कुंए बावड़ी गढ़ किलो जैसी ऐतिहासिक धरोहरों का संरक्षण किया जाए. चेतन्य मीणा के नेतृत्व में 15 युवाओं ने हर रविवार को गांव के साफ-सफाई शुरू की. इस अभियान को 'एक दिन गांव के नाम' (Ek Din Gaon Ke Naam) नाम दिया. अभियान में युवाओं ने पार्कों, स्कूलों, अस्पताल और एतिहासिक धरोहरो की सफाई शुरू की. अजीतगढ़ में अब हर रविवार को युवा साफ-सफाई कर गांव की काया पलट कर रहे हैं. 

युवाओं की अनूठी पहल
अजीतगढ़ में युवाओं की अनूठी पहल और इस अभियान से समाज सेवी और सेवाभावी लोग भी जुड़ने लगे. अजीतगढ़ के साथ-साथ आस-पास के गांवों में इन युवाओं ने जाकर शहीद स्मारक पार्क स्कूल सार्वजनिक, धार्मिक स्थलों की सफाई की. बेजुबानों के लिए परिंडे लगवाए. कुएं बावड़ियों की सफाई के साथ पौधे लगाए और इससे हर गांव के युवा और लोग जुड़ते चले गए. एक दिन गांव के नाम अभियान में युवाओं ने शहीदों के सम्मान में शहीद वंदन अभियान शुरू किया और शहीदों के परिजनों का सम्मान शुरू किया. 

समाजिक उत्थान के कार्यक्रम
जल संरक्षण, ऐतिहासिक धरोहरों को संरक्षण प्रकति संरक्षण स्वच्छता का संदेश दिया गया. असहायों को कपड़े मुहैया कराने के लिए कपड़ा बैंक, रक्त की कमी और जरूरतमंद को रक्त उपलब्ध कराने के लिए ब्लड डोनेशन कैम्प लगवाए. अजीतगढ़ के समाज सेवी मोहम्मद शरीफ गौरी और पद्मश्री जगदीश पारीक भी इस अभियान की तारीफ करते हुए बताते है कि अभियान से प्रेरित होकर वे भी इससे जुड़कर इन समाजिक उत्थान के कार्यक्रम में अपना योगदान दे रहे हैं. 

यह भी पढ़ेंः ZEE Media की खबर 'स्वच्छता की धुंधली तस्वीर' का बड़ा असर, महज 2 दिन में 10,000 परिवारों को शौचालयों का भुगतान

अजीतगढ़ के युवाओं के एक दिन गांव के लिए अभियान से गांवों की तस्वीर तो बदल ही रही है. साथ युवा गांव के उत्थान में अपना योगदान भी दे रहा है. इतना ही नहीं अन्य गांवों के युवा इससे प्रेरणा लेकर दर्जनों गांवों में युवाओं ने भी इस तरह का अभियान शुरू किया है. एक दिन गांव के लिए अभियान हर गांव में शुरू हो तो गांव की तस्वीर बदलने में ज्यादा समय नहीं लगेगा. 

Reporter- Ashok Singh