Rajasthan: मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार में लागू हो सकता है यह सिद्धांत, होंगे बड़े बदलाव

कहा यह जा रहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल, संसदीय सचिव और राजनीतिक नियुक्तियों में एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत ही लागू रहने वाला है. 

Rajasthan: मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार में लागू हो सकता है यह सिद्धांत, होंगे बड़े बदलाव
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा.

Jaipur: राजस्थान (Rajasthan) में जल्द होने वाले मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार के फॉर्मूले को लेकर सियासी हलकों में कई तरह की चर्चाएं जारी हैं. कहा यह जा रहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल, संसदीय सचिव और राजनीतिक नियुक्तियों में एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत ही लागू रहने वाला है. 

यह भी पढ़ें- मंत्रिमंडल विस्तार से पहले हलचल, पढ़ें प्रमोशन को लेकर Congress नेताओं के Reaction

इस बात की पुष्टि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) के वायरल वीडियो से भी हो रही है. वीडियो अजमेर में शिक्षा मंत्री के 12वीं क्लास के परीक्षा परिणाम के कार्यक्रम के दौरान का है, जहां कार्यक्रम के बाद शिक्षा मंत्री नाश्ते के दौरान अधिकारियों से चर्चा में कह रहे हैं कि मुझसे जो विभागीय काम करवाना है, जल्दी करवा लीजिए. मैं 2, 5, 10 दिन का ही मेहमान हूं यानी मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल चार-पांच दिनों में ही हो रहा है और साथ में डोटासरा के शिक्षा मंत्री पद पर भी तलवार लटकी हुई है. 

यह भी पढ़ें- CM की सहमति से मंत्रिमंडल विस्तार-फेरबदल का रास्ता साफ, Maken बोले-जल्द मिलेगा Result

माना जा रहा है कि एक व्यक्ति एक पद सिद्धांत के चलते शिक्षा मंत्री के पद से गोविंद सिंह डोटासरा को हटाया जा सकता है और पीसीसी अध्यक्ष की जिम्मेदारी उनकी बरकरार रहेगी. 

कांग्रेस के मिशन 2023 पर असर पड़ सकता
इसके पीछे वजह और तरह यदि जा रही है कि पीसीसी अध्यक्ष के नाते संगठन के मुखिया के तौर पर उनका कद कद बहुत बड़ा है लेकिन शिक्षा राज्य मंत्री के तौर पर कैबिनेट में उनकी जगह नहीं है. लिहाजा प्रोटोकॉल की पालना सही तौर पर नहीं हो रही है. इसके अलावा बतौर शिक्षा मंत्री कामकाज अधिक होने के चलते वे संगठन पर भी अधिक ध्यान नहीं दे पाएंगे, जिससे कांग्रेस के मिशन 2023 पर असर पड़ सकता है. 

पीसीसी अध्यक्ष के तौर पर गोविंद सिंह डोटासरा संगठन पर अधिक फोकस करें और मंत्रिमंडल से हटाए जाने वाले कुछ वरिष्ठ नेताओं को बतौर कार्यकारी अध्यक्ष बनाकर उनके साथ लगाया जा सकता है. यानी कुल मिलाकर यह तय है कि राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल इसी सप्ताह होना है और उसमें बड़े और व्यापक बदलाव दिखाई दे सकते हैं.