REET मामले में Jaipur जिला प्रशासन को राहत, 80 हजार अभ्यर्थी हुए कम

परीक्षा संचालन समिति के अध्यक्ष जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा (Antar Singh Nehra) परीक्षा की तैयारियों पर पूरी नजर बनाए हुए हैं.

REET मामले में Jaipur जिला प्रशासन को राहत, 80 हजार अभ्यर्थी हुए कम
जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा ने बताया कि जयपुर के 38,983 अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है.

Jaipur: रोजगार पाने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रति युवा का रुझान शुरू से ही है, लेकिन अध्यापक बनने की कतार लम्बी दिखाई दे रही है. यही कारण है कि प्रदेश में 26 सितम्बर को आयोजित हो रही रीट परीक्षा (REET Examination) में अकेले जयपुर जिले में करीब 2 लाख 51 हजार परीक्षार्थी बैठेंगे.

जिले के ऐसा पहली बार हो रहा है, जिसमें एक ही प्रतियोगी परीक्षा में इतनी बड़ी संख्या में परीक्षार्थी शामिल होंगे जबकि पूरे प्रदेश में करीब 26 लाख अभ्यर्थी शामिल हो रहे हैं. इसके लिए शिक्षा विभाग ही नहीं, जिला प्रशासन और अन्य विभाग भी पूरी तैयारी में जुटे हुए हैं. 

यह भी पढ़ें- REET 2021: अगर आपके एडमिट कार्ड में है कोई गलती, जानिए तब आप क्या कर सकते हैं

 

परीक्षा संचालन समिति के अध्यक्ष जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा (Antar Singh Nehra) परीक्षा की तैयारियों पर पूरी नजर बनाए हुए हैं. साथ ही कई बैठकें भी ले चुके हैं. वहीं, पुलिस, रोडवेज, नगर निगम जेडीए, मेट्रो, रेलवे सहित अन्य सम्बंधित विभागों के अधिकारियों को भी परीक्षा के दिन अलर्ट रखा गया है.

रीट मामले में जयपुर जिला प्रशासन को राहत

  • 80 हजार अभ्यर्थियों को आने-जाने से रोकने के लिए सेंटर्स में बदलाव
  • जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा ने कहा- व्यवस्था माकूल
  • महिलाओं को गृह जिला आवंटित होने से मिली राहत
  • इसके लिए मुख्य सचिव और ACS शिक्षा को दिया धन्यवाद
  • जयपुर से जाने-आने वाले 80 हजार अभ्यर्थी हुए कम
  • जयपुर में कुल 2 लाख 51 हजार अभ्यर्थी देंगे एग्जाम

युद्ध स्तर पर हो रही तैयारियां
तीन तारीखें बदलने के बाद आखिरकार 26 सितंबर को रीट भर्ती 2021 परीक्षा होने जा रही है. साल की सबसे बड़ी इस परीक्षा ने प्रशासन की चिंता बढ़ा रखी है. अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्रों तक पहुंचाने, उनके ठहरने और खाने-पीने से लेकर नकल गिरोहों पर लगाम कसने के हरसंभव प्रयास पर काम चल रहा है लेकिन इसी बीच रीट भर्ती परीक्षा में जयपुर आने वाले 1.76 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों के लिए व्यवस्था में जुटे जयपुर जिला प्रशासन को थोड़ी राहत मिली है. 

गृह जिलों में अभ्यर्थियों को मिला सेंटर
साथ ही रीट परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों के लिए भी यह बड़ी राहत है. परीक्षा देने के लिए दूसरे जिलों से आने वाले करीब 39 हजार अभ्यर्थियों को उन्ही के जिलों में सेंटर्स आवंटित कर दिया है. इसी तरह जयपुर से दूसरे जिलों में परीक्षा देने जाने वाले इतने ही अभ्यर्थियों को जयपुर में ही सेंटर्स आवंटित कर दिए है। जयपुर में रीट परीक्षा के लिए कुल 592 परीक्षा केन्द्र बनाए है, जिन पर लगभग 2.51 लाख से ज्यादा परीक्षार्थी परीक्षा देंगे. इनमें से जयपुर शहर में 458 केन्द्र है जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में 134 परीक्षा केन्द्र. इन अभ्यर्थियों में से जयपुर जिले के रहने वाले करीब 1.14 लाख अभ्यर्थी हैं जबकि दूसरे जिलों (बाहर) से आने वाले अभ्यर्थियों की संख्या 1.37 लाख से ज्यादा है. पहले बाहर से आने वाले अभ्यर्थियों की संख्या 1.76 लाख से ज्यादा थी और जयपुर से जाने वाले अभ्यर्थियों की संख्या 1 लाख 16 हजार थी.

क्या बताया जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा ने
जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा ने बताया कि जयपुर के 38,983 अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है. इन अभ्यर्थियों के सेंटर्स को दूसरे जिलों से निरस्त करके जयपुर में ही कर दिया है. इनमें ज्यादातर महिला अभ्यर्थी है. इस तरह से जयपुर जिले से दूसरे जिलों में परीक्षा देने के लिए जाने वाले अभ्यर्थियों की संख्या अब 1 लाख 16 हजार 617 से कम होकर 83 हजार 16 रह गई है. 

आरटीओ राकेश शर्मा ने बताया कि जयपुर से बाहर दूसरे जिलों में जाने वाले अभ्यर्थियों के लिए जयपुर जिला प्रशासन ने 1480 बसों की व्यवस्था की है, जिसमें 1100 से निजी बसें है जबकि 380 रोडवेज की बसें हैं. ये बसें तीन दिन 24 से 27 सितम्बर तक संचालित होगी. इसी तरह दूसरे जिलों से जयपुर आने वाली बसों को जयपुर में शहर में रोकने के लिए एंट्री पोइंट्स पर 5 अस्थायी बस स्टेण्ड बनाए है. इन बस स्टैंडों पर आने वाले अभ्यर्थियों को जयपुर के अलग-अलग सेंटर्स तक पहुंचाने के लिए प्रशासन ने 1048 लोकल बसों, 250 लो फ्लोर बस और 230 ग्रामीण सेवा की बसों की व्यवस्था की है। साथ में 1593 टाटा मैजिक, 2150 टैक्सी-जीप, 17 हजार ई-रिक्शा और 18 हजार ऑटो रिक्शा लगाए गए हैं.

गौरतलब है कि 26 सितम्बर को दो पारियों में परीक्षा होगी. प्रथम पारी सुबह 10 बजे से 12.30 तक लेवल-टू और दोपहर में 2.30 बजे से शाम पांच बजे तक लेवल वन की परीक्षा होगी. परीक्षार्थियों को आधा घंटे पहले पहुंचना होगा. 9.30 बजे परीक्षा केन्द्र बंद कर दिए जाएंगे. वहीं, हर परीक्षा केन्द्र पर वीडियोग्राफी होगी. सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस बल तैनात रहेगा. साथ ही किसी भी प्रकार के अनुचित सामग्री नहीं ले जा सकेंगे.

बहरहाल, रीट परीक्षा में हजारों की संख्या में परीक्षा देने के लिए आने वाले अभ्यर्थियों की व्यवस्था करना बड़ी चुनौती साबित हो सकता है. इसके लिए फिलहाल जयपुर जिले के लिए राज्य सरकार ने नोडल अधिकारी नियुक्त कर दिया हैं और मुख्य सचिव ने जयपुर मॉडल को दूसरे जिलों में फॉलो करने के लिए कहा है.