close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में नए चेहरे को भी मिल सकती है BJP की कमान, इन नामों की है चर्चा

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि प्रदेश अध्यक्ष के लिए राजेंद्र राठौड़ का नाम सबसे आगे चल रहा है.

राजस्थान में नए चेहरे को भी मिल सकती है BJP की कमान, इन नामों की है चर्चा
केंद्रीय नेतृत्व इसपर जल्द निर्णय ले सकती है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राजस्थान बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष रहे मदनलाल सैनी के निधन के बाद नए प्रदेश अध्यक्ष की खोज शुरू हो चुकी है. इसके लिए वसुंधरा कैंप और उनके विरोधियों ने संगठन को कई नाम सुझाए हैं. प्रदेश अध्यक्ष के नाम पर अब तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है. माना जा रहा है कि बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के लिए नए चेहरे को भी मौका मिल सकता है. जो पार्टी की गतिविधियों को गुटबाजी से दूर रख सके. 

वैसे प्रदेश में साल के अंत में निकाय चुनाव होने जा रहा है. इस दौरान नए प्रदेश अध्यक्ष को मजबूती से बीजेपी को आगे रखने की चुनौती होगी. जिस कारण पार्टी किसी मजबूत प्रदेश अध्यक्ष को नियुक्त कर सकती है.

प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में किसकी है चर्चा
बीजेपी सूत्रों का कहना है कि प्रदेश अध्यक्ष के लिए राजेंद्र राठौड़ का नाम सबसे आगे चल रहा है. राठौड़ बीजेपी के दिग्गज नेता माने जाते हैं. राजपूत जाति से संबंध रखने वाले राठौड़ राजस्थान विधानसभा के 7 बार विधायक के अलावा कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं. इनके अलावा लंबे समय तक विद्यार्थी परिषद और युवा मोर्चा में कार्य कर चुके जाट समुदाय के सतीश पुनिया को भी प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है. वहीं, चित्तौड़गढ़ से सांसद सीपी जोशी भी प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में शामिल हैं. 

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि संघ से नजदीकी का लाभ बीजेपी नेता नारायण पंचारिया को भी मिल सकता है. उनके नाम पर भी पार्टी में चर्चा चल रही है. पंचारिणा बीजेपी नेता भूपेंद्र यादव से नजदीक माने जाते हैं. इसके अलावा बीजेपी नेता वासुदेव देवनानी का नाम भी संघ की नजदीकी के कारण चर्चा में है.

सूत्रों का यह भी दावा है कि राजस्थान में वसुंधरा राजे से नजदीकी रखने वाले किसी के भी नाम की चर्चा प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर नहीं चल रही है. माना जा रहा है कि राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर लंबे सांगठनिक अनुभव रखने वाले को प्राथमिकता दी जाएगी. जिसके लिए केंद्रीय नेतृत्व जल्द निर्णय ले सकती है.