लाडनूं: मुख्य डाक घर में 8 दिनों से बाधित ऑनलाइन सेवाएं, काम हो रहा प्रभावित

लाडनूं कस्बे की 1 लाख 50 हजार के करीब जनसंख्या होने के बावजूद लाडनूं कस्बे की डाक वितरण का जिम्मा दो पोस्टमैन को सौंपा गया है.

लाडनूं: मुख्य डाक घर में 8 दिनों से बाधित ऑनलाइन सेवाएं, काम हो रहा प्रभावित
फाइल फोटो

लाडनूं: मुख्य डाकघर में ऑनलाईन आधारित सेवाएं 30 मई  2019 से पूरी तरह से बंद हैं. जिसके कारण बाहर से आने वाली डाक की वितरण व्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हो रही है. डाकपाल गिरधारीलाल रोहलन ने बताया कि ऑनलाईन सेवाओं के व्यवधान की शिकायत विभाग को 30 मई को दोपहर 2 बजे ही कर दी गई थी. शिकायत के एक सप्ताह बीत जाने के बावजूद इस बारे में कोई कार्रवाई नहीं कि गई है. 

इस समस्या के बारे में उपमण्डल डीडवाना और मण्डल नागौर में अनेक बार अवगत कराने के बावजूद अभी तक कोई सुधार नहीं हुआ है. ऑनलाईन सेवाएं बाधित होने से बाहर से आने वाली डाक का वितरण नहीं हो रहा है, बचत बैंक में लेन देन भी पूरी तरह से बंद पड़ा है. 

दो पोस्टमैन के भरोसे है डाक वितरण 
लाडनूं कस्बे की 1 लाख 50 हजार के करीब जनसंख्या होने के बावजूद लाडनूं कस्बे की डाक वितरण का जिम्मा दो पोस्टमैन को सौंपा गया है. ऐसे में लाडनूं की जरूरतमंद डाक का वितरण सही समय पर होना बड़ा मुश्किल कार्य है जबकि लाडनूं मुख्य डाकघर में 4 पद पोस्टमैन स्वीकृत है, जिसमें से दो पद रिक्त पड़े हैं. 

एमटीएस के पद रिक्त
लाडनूं डाकघर में एमटीएस के दो पद स्वीकृत हैं, जो कई महीनों से ही रिक्त पड़े हैं, जिससे कार्य बाधित हो रहा है. 

पोस्ट ऑफिस में नहीं है चपरासी
लाडनूं कस्बे के सबसे बड़ा मुख्य डाक घर के दफ्तर में एक भी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी कार्यरत नहीं है. डाकघर में बचत खाते में प्रतिदिन का लेनदेन करीब 40 हजार से पचास हजार तक तथा आर डी के खाते करीब 200 से अधिक का लेनदेन होता है इस प्रकार रोजाना करीब 10 लाख का लेनदेन होता है, जो ऑनलाइन सेवाओं के बाधित होने से बाधित हो रहा है. 

डाक वितरण का काम ठप्प
डाकपाल रोहलन ने बताता रोजाना पंजीकृत डाक करीब 300 -400 एवं साधारण डाक 500 से अधिक होता है जो भी इस समय बाधित ही रखा है. ऑनलाईन बाधित होने से डाक वितरण नहीं हो रहा है, जिसके बारे में उच्च अधिकारियों को अवगत करवा दिया है तथा स्टॉफ की कमी से कार्य बाधित हो रहा है. लाडनूं कस्बे में जनसंख्या के अनुसार पोस्टमैन और कर्मचारियों की नियुक्ति होनी चाहिए, ऑनलाइन सेवाएं ठप्प होने से डाक वितरण व्यवस्था बाधित ही गई हैं. जिसे अतिशीघ्र दुरस्त किया जाना चाहिए.