लोकसभा चुनाव 2019: राजस्थान में मतगणना को लेकर जोरों पर हो रही तैयारियां

जालौर सिरोही लोकसभा क्षेत्र की मतगणना के लिए 96 टेबल लगेगी. हर टेबल पर तीन काउंटिंग अधिकारी होंगे जिसमें एक आरओ अधिकारी होगा.

लोकसभा चुनाव 2019: राजस्थान में मतगणना को लेकर जोरों पर हो रही तैयारियां
जालौर जिले के सांचौर विधानसभा में सबसे ज्यादा काउंटिंग राउंड होने वाले हैं

बबलू मीना/जालौर: जिला निर्वाचन अधिकारी ने जालौर सिरोही लोकसभा क्षेत्र में मतगणना की तैयारियों को लेकर जालोर पीजी महाविद्यालय का दौरा किया. जालोर जिला निर्वाचन अधिकारी महेंद्र सोनी सहित जालौर जिला पुलिस अधीक्षक केशरसिंह सभी विधानसभा क्षेत्रो में अलग अलग तरीके से जांच की. पूर्ण रूप से सभी दस्तावेजों को चेक करने के बाद में मतगणना 23 मई को सुबह 8 बजे से शुरू होगी ऊसके लिये अंतिम तैयारियां जोरों पर हैं

जालौर सिरोही लोकसभा क्षेत्र की मतगणना के लिए 96 टेबल लगेगी. हर टेबल पर तीन काउंटिंग अधिकारी होंगे जिसमें एक आरओ अधिकारी होगा. प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 12 देबल होगी हर टेबल पर तीन अधिकारी होंगे. वहीं जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि पोस्टल ऑर्डर जिला निर्वाचन अधिकारी की निगरानी में जाएंगें

साथ ही जालोर पीजी महाविद्यालय की वर्तमान में सबसे भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई है. जालोर पुलिस की सुरक्षा में EVM मशीन रखी गई है. इंडियन आर्मी 24 घंटे सुरक्षा व्यवस्था की गई है. इतना ही नहीं सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में जालोर निर्वाचन अधिकारी करवा रहे हैं.

पार्किंग की व्यवस्था एक अलग रूप में देखने को मिलेगी जालोर निर्वाचन अधिकारी ने मतदान वाले समस्त स्टाफ को खाने-पीने की भी की जाएगी. जिसमें खाने के पैकेट, चाय बिस्कुट और पानी की व्यवस्था की जाएगी. जालोर कॉलेज के चारों तरफ एक अलग तरीके की लाइट लगी हुई है, जिससे कि रात में भी अगर कोई हलचल होती है तो सीसीटीवी कैमरे में वह कैद हो जाएगी.

अब बात करें काउंटिंग की तो जालौर जिले में सबसे ज्यादा राउंड सांचौर विधानसभा में होने वाले हैं, क्योंकि यहां 26 राउंड में मतदान ज्यादा प्रतिशत हुआ है, एक मीडिया सेंटर खोला गया है जिसने नेट की लीज लाइन की व्यवस्था की गई है, किसी भी हालत में किसी भी मीडिया कर्मी को मतगणना हॉल के अंदर वीडियो बनाने की अनुमति नहीं दी जाएगी. अगर किसी ने वीडियो बनाया तो निर्वाचन विभाग अधिकारी की सख्त निर्देश है कि कानूनी कार्रवाई की जाएगी. बहार से आए लोगों के लिए माइक के द्वारा उद्बोधन किया जाएगा. मतगणना के अनुसार प्रत्येक राऊंड के लिए मतगणना एजेंट 24 घंटे पहले अपनी दो फोटों और फार्म 18 आवेदन करना जरूरी है. 20 अप्रैल से पहले पास बनेगे तभी उपस्थिति दी जाएगी.

सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात यह है जो मतपत्र गणना के लिए सरकारी अफसर जो होंगे उनको किसी को यह पता नहीं होगा कि किसी व्यक्ति की कहां ड्यूटी लगेगी. उस ड्यूटी के लिए कंप्यूटर रूम से कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के द्वारा हर विधानसभा क्षेत्र के अलग-अलग दिन की ड्यूटी लगाई जाएगी. महज मात्र 24 घंटे पहले ही पता चल पाएगा कि कौन की किस विधानसभा क्षेत्र में ड्यूटी लगेगी, कौन सी टेबल पर कब किसकी ड्यूटी लगेगी. मतगणना सुबह 8:00 बजे से प्रारंभ होगी.