close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विधानसभा चुनाव में करीब एक लाख दिव्यांगजनों ने किया मतदान, EC ने दी जानकारी

 निर्वाचन आयोग ने चुनाव के दौरान राज्य में दिव्यांगजनों को मतदान केंद्र तक लाने और उन्हें मतदान करवाने के लिए विशेष  इंतजाम किया था.

विधानसभा चुनाव में करीब एक लाख दिव्यांगजनों ने किया मतदान, EC ने दी जानकारी
राजस्थान के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी जोगाराम ने बताया दिव्यांगजनों के मतदान के बारे में जानकारी दी. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में प्रदेश के करीब एक लाख दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. राज्य के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी जोगाराम ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि विधानसभा चुनाव के दौरान दिव्यांगों को मतदान के दौरान मदद के लिए विभाग ने हरसंभव प्रयास किए.

वहीं, 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी मतदान के दौरान किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े, इसके लिए भी विभाग तैयारी करने जा रही है. डॉ. जोगाराम ने दिल्ली स्थित प्रवासी भारतीय केंद्र में आयोजित एनएसीएई (नेशनल एडवाजरी कमेटी ऑन एक्सीसेबल इलेक्शन) की पहली बैठक में यह जानकारी दी. 

उन्होंने बताया कि निर्वाचन आयोग ने 2018 की थीम ‘सुगम मतदान‘ थी. इसके मद्देनजर राज्य में दिव्यांगजनों को मतदान केंद्र तक लाने और उन्हें मतदान करवाने के प्रयास किए गए. यही वजह रही कि प्रदेश में करीब 1 लाख दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. कुछ जिलों में दिव्यांग मतदान का प्रतिशत पिछले चुनाव की तुलना में बहुत ज्यादा रहा. अकेले चित्तौड़गढ़ में 92 प्रतिशत दिव्यांग मतदाताओं ने मताधिकार का इस्तेमाल किया.

उन्होंने यह भी बताया कि हाल ही हुए विधानसभा चुनाव में भी विभाग ने 52 हजार मतदान केंद्रों से दिव्यांगजनों के लिए ‘पिक एंड ड्रॉप‘ सुविधा (घर से मतदान केंद्र और मतदान केंद्र से घर लाने की विशेष सुविधा) प्रदान की थी. EC ने सभी मतदान केंद्रों पर दिव्यांगजनों को प्राथमिकता से मतदान कराने के भी निर्देश दिए गए थे. इसके अलावा प्रत्येक मतदान केंद्र पर दिव्यांगजनों की मदद के लिए 2 स्काउट गाइड और एनएसएस सदस्यों को भी नियोजित किया गया था. 

उन्होंने बताया कि एक मतदान केंद्र पर 10 से ज्यादा दिव्यांगजन होने पर 8 हजार 399 मतदान केंद्रों को चिन्हित किया गया था और दिव्यांगजनों के लिए 12 हजार 245 व्हील चेयर्स का इंतजाम किया था, ताकि दिव्यांगजन बिना किसी दिक्कत के मतदान कर सकें. 

इन व्हीलचेयर्स के जरिए 8 लाख से ज्यादा मतदाताओं को मतदान करवाया गया, जिनमें बुजुर्ग मतदाता भी शामिल थे. उन्होंने बताया कि मतदान दिवस पर ज्यादा से ज्यादा दिव्यांगजनों की भागीदारी रहे इसके लिए विभाग ने प्रदेश की सभी 200 विधानसभाओं में दिव्यांग मतदाताओं को ईवीएम और वीवीपैट मशीनों के बारे में जागरूक करने के लिए प्रशिक्षण भी दिया. 

इनके अलावा सभी मतदान केंद्रों पर आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने और स्वीप कार्यक्रमों के तहत प्रदेश भर के दिव्यांगजनों को जागरूक करने के लिए कई गतिविधियां भी करवाई. उन्होंने बैठक में विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में दिव्यांगजनों के किए नवाचारों के बारे में जानकारी देते हुए इस दौरान आने वाली व्यवहारिक परेशानियों और उनके समाधान के लिए मिले सुझावों को भी प्रजेंटेशन के माध्यम से प्रस्तुत किया.