close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर का फुलेरा स्टेशन जिसे ठंडे पानी वाला स्टेशन के नाम से मिली पहचान, जानिए क्यों

यहां आने वाले यात्री भी इस फुलेरा स्टेशन को ठंडे पानी वाला स्टेशन के नाम से जानने लगे है.

जयपुर का फुलेरा स्टेशन जिसे ठंडे पानी वाला स्टेशन के नाम से मिली पहचान, जानिए क्यों
इस रेलवे स्टेशन पर जल सेवकों ने मानवता की एक अनोखी मिसाल पेश की है

सुनील कुमावत/फुलेरा: प्रदेश में जहां 47 डिग्री इस भीषण गर्मी में पेयजल संकट गहराता जा रहा है. जरूरत के मुताबिक व्यवस्थाएं तय करना तो दूर, सरकार का मौजूदा प्रबन्ध भी चरमरा रहा है. ऐसे में जल सेवक आगे आ रहे हैं. फुलेरा रेलवे स्टेशन इन दिनों ठंडे पानी वाला स्टेशन के नाम से जाने जाना लगा है रेलवे स्टेशन पर जलसेवक प्यासों को नि:शुल्क पानी पिलाकर राहत बांटने का नेक कार्य कर रहे हैं.

राजधानी से 60 किलोमीटर दूर इस भीषण गर्मी गर्मी में यात्रियों से खचाखच भरी ट्रेन में जब यात्रियों के हलक सुख रहे होते है. वह ट्रेन फुलेरा रेलवे स्टेशन पर रुकती है तो सैकड़ों निगाहें यहां-वहां पानी तलाशने लगती हैं. कई बुजुर्ग और बच्चे धक्का-मुक्की के बीच ट्रेन से उतरने का साहस नहीं जुटा पाते. महिलाएं कई बार पानी तक पहुंच ही नहीं पातीं. यह परेशानी देख आसपास के क्षेत्रों से कुछ लोग आगे आए और जलसेवा का बीड़ा उठाया. अब स्टेशन पर जिस किसी को जरूरत होती है, जलसेवक दौड़कर उनके पास पहुंचते हैं और नि:शुल्क ठंडा पानी पिलाकर यात्रियों की प्यास बुझाते है. 

फुलेरा रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को ट्रेन में बैठे बैठे ही ठंडा फिल्टर का पानी उपलब्ध कराया जा रहा है. लेकिन ये ठंडे पानी की सुविधा यात्रियों को रेलवे की ओर से नहीं बल्कि फुलेरा के लोगों की ओर से है जो कि पिछले कई सालों से रेलवे स्टेशन पर रोजाना हजारों यात्रियों को पानी उनकी प्यास बुझा रहे है. यहां स्टेशन पर जैसे ही ट्रेन आती है सभी जल सेवक आवाज लगाकर प्रत्येक डिब्बे में ठंडा पानी पहुंचाने का काम करते दिखाई देते है. इस इस नेक कार्य मे विधायक सहित कई जनप्रतिनिधियों भी निस्वार्थ अपनी सेवा दे रहे है.

इस स्टेशन पर सुबह से लेकर शाम तक सैकड़ों की संख्या में बच्चे युवा और बुजुर्गों को जैसे ही ट्रेन की सीटी की आवाज कानो में सुनाई देती है, सभी सतर्क हो जाते है और ट्रेन के रुकते ही तेज कदमों से उसकी और दौड़ पड़ते है. सभी लोग हाथ मे बाल्टी और ट्रॉली में ठंडा पानी लेकर इस भीषण गर्मी में दूर-दराज से आने वाले यात्रियों को ठंडा पानी पिला कर उनकी प्यास बुझाकर उनका गला तरकर नर सेवा करते दिखाई देते है. जिसके चलते यहां आने वाले यात्री भी इस फुलेरा स्टेशन को ठंडे पानी वाला स्टेशन के नाम से जानने लगे है.

फुलेरा स्टेशन पर कई साल से ठंडा पानी पिला कर यात्रियों की सेवा करने का काम लगातार किया जा रहा है. इस काम में रोजाना लगभग 5 से 8 हजार लीटर ठंडा और आरओ का पानी यात्रियों को पिलाई जा रहा है. पाली पिलाने में होने वाले खर्च के लिए कई भामाशाह संस्थाएं और युवाओं बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं. साथ ही सोशल मीडिया के जरिए भी लोग पेटीएम कर अधिक से अधिक संख्या में पैसा एकत्रित कर रहे हैं. इसी के कारण यहां रोजाना हजारों यात्रियों की प्यास बुझाई जा रही है. इस कार्य की सभी यात्री और क्षेत्रवासी तारीफ करते नहीं थक रहे हैं.

इस रेलवे स्टेशन पर जल सेवकों ने मानवता की एक अनोखी मिसाल पेश की है, जिसकी हर तरफ लोग तारीफ कर रहे है.ऐसा नेक काम अगर प्रत्येक क्षेत्र के लोग करने लग जाए तो, इस भीषण गर्मी में यात्रा करने वाले यात्रियों की प्यास भी बुझ जाएगी साथ ही ऐसी मानव सेवा के प्रति लोगो का जुड़ाव भी होगा.