close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: निर्माणाधीन सीवर लाइन में काम कर रहे 4 मजदूरों की मौत

शहर के उपनगरिय इलाके में अमृतम जंलम योजना के तहत सीवरेज कार्य किए जा रहे हैं. जो पिछले करीब डेढ साल से चल रहा है और ठेकेदार की ओर से इसको लेकर घोर लापरवाई बरती जा रही है. 

राजस्थान: निर्माणाधीन सीवर लाइन में काम कर रहे 4 मजदूरों की मौत
सूचना पर हिरणमगरी थाना पुलिस के साथ सिविल डिफेंस और एस.डी.आर.एफ की टीमें मौके पर पहुंची.

उदयपुर/ अविनाश जगनावत: शहर के उपनगरीय मनवाखेड़ा इलाके में चल रहे सीवरेज लाइन के काम में बरती जा रही लापरवाही बुधवार को वहां काम कर रहे मजदूरों की जान पर भारी पड़ गई. सीवर लाइन में पानी का ब्लॉकेज देखने उतरे चार मजदूरों की सीवरेज लाइन में गिरने से दर्दनाक मौत हो गई. बताया जा रहा है कि सीवरेज लाइन में पहले दो माजदूर उतरे थे और फिर उन्हें बचाने के लिए एक के बाद एक दो माजदूर और उतरे लेकिन सभी की अंदर ही काल के मूंह में समा गए. 

इस दौरान एक अन्य मजदूर भी उन्हें बचाने के लिए उतरा लेकिन वो समय रहते बाहर निकल गया. सूचना पर हिरणमगरी थाना पुलिस के साथ सिविल डिफेंस और एस.डी.आर.एफ की टीमें मौके पर पहुंची. करीब एक घंटे तक चलाए रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद चारों के शवों को बाहर निकाला गया. इस दौरान लगातार बारिश के चलते बचाव कार्य में भी देरी हुई. मरने वाले में चित्तौड़ निवासी कानसिंह, प्रहलाद, बांसवाडा निवासी कैलाश, परसाद निवासी जेसीबी चालक धर्म चन्द शामिल है. हासदे में मारे गए चारों मजदूरों की मौत किस कारण से हुई है इसका खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद होगा लेकिन बताया जा रहा है कि पिछले करीब दो माह से सीवरेज लाइन का यह गड्डा बंद था और जब मजदूर अंदर काम करने के लिए उतरे तो आक्सिजन की कमी के चलते उनका दम घुट गया और एक के बाद एक चारों की मौत हो गई. 

शहर के उपनगरिय इलाके में अमृतम जंलम योजना के तहत सीवरेज कार्य किए जा रहे हैं. जो पिछले करीब डेढ साल से चल रहा है और ठेकेदार की ओर से इसको लेकर घोर लापरवाई बरती जा रही है. वहीं हादसे की सूचना के बाद भी घंटो तक निगम का कोई जिम्मेदार जनप्रतिनिधी या अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा लेकिन रेस्क्यू पूरा होने के बाद निगम के आयुक्त अंकित कुमार मौके पर पहुंचे और घटना के बारे में जानकारी ली. इस दौरान उनसे हादसे की जिम्मेदारी के लिए पूछा तो उन्होंने साफ कहा कि इस मामले की जांच के बाद ही कुछ बोल पाएगें. 

हादसे के बाद बड़ी संख्या में लोग मौके पर जमा हो गए. लोगों ने सीवरेज लाइन के निमार्ण में बरती जा रही लापरवाई पर अपना विरोध जताया. लोगों का कहना है कि पिछले करीब डेढ साल से यह काम चल रहा है लेकिन निर्माण कम्पनी की ओर से इसको लेकर लापरवाही बरती जा रही है. वहीं इस घटना के बाद पूर्व विधायक सज्जन कटारा भी पहुंची. 

बहरआल इस बड़ी घटना के बाद जनप्रतिनिधि और अधिकारी मामले की जांच करवाने की बात कह रहे हैं लेकिन अगर सीवरेज लाइन के निर्माण कार्य में बरती जा रही लापरवाही पर क्षेत्रवासियों की शिकायतों पर पहले ध्यान दे दिया जाता तो संभवतया आज शहर की सीवरेज लाइन मौत की लाइन नहीं बनती.