close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीवरेज की गंदगी से सराबोर जयपुर शहर, खोल रहा है नगर निगम के स्वच्छता अभियान की पोल

लेकिन राजधानी जयपुर का सीवरेज सिस्टम चौपट होने से शहर के कई भाग में सीवरेज लाईनों से गंदा मल और पानी खुले में बह रहा हैं. 

सीवरेज की गंदगी से सराबोर जयपुर शहर, खोल रहा है नगर निगम के स्वच्छता अभियान की पोल
जयपुर नगर निगम की लापरवाही का खामियाजा नागरिकों को भुगतना पड़ रहा है. (फाइल फोटो)

रौशन शर्मा, जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर का नगर निगम भले ही स्वच्छता अभियान को सफल बनाने के लिए प्रयास करने का दावा करता हो. लेकिन अपने हेरिटेज के लिए जाना जाने वाले जयपुर शहर के कई हिस्सों में सीवरेज का बहता गंदा पानी राज्य सरकार और नगर निगम के दावों की पोल खोल रहा है. 

स्मार्ट सीटी जयपुर को राज्य सरकार ने ओडीएफ(open defectation free) घोषित कर रखा है. लेकिन राजस्थान की राजधानी जयपुर में नगर निगम की लापरवाही के कारण शहरवासियों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ अब भी जारी है.

आपको बता दें कि, राजस्थान की राजधानी जयपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के नाम पर करोड़ों रूपया खर्च किया जा चुके हैं. लेकिन राजधानी जयपुर का सीवरेज सिस्टम आज भी चौपट पड़ा है. शहर के कई भाग में सीवरेज लाईनों से गंदा मल और पानी खुले में बह रहा है.

 अपने पर्यटन स्थल के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध जयपुर शहर के तालकटोरे की दुर्दशा देख यहां आने वाले पर्यटक भी खुद को ठगा सा महसूस करते है. जयपुर के ट्यूरिस्ट स्पोर्ट तालकटोरे में सीवरेज लाइनों के कनेक्शन का कार्य जयपुर नगर निगम के इंजिनियर्स ने किया है. जिसमें की गई लापरवाही का खामियाजा स्थानीय लोगों को भुगतना पड़ रहा है. 

इस संबंध में जयपुर नगर निगम के कार्यवाहक मेयर मनोज भारद्धाज ने 15 दिन पहले जयपुर नगर निगम का मेयर बनने की बात कहते हुए अपनी जिम्मेदारी से पीछा छूड़ा लिया. वहीं, स्वायत्त शासन विभाग के सचिव सिद्धार्थ महाजन इस संबंध में कोई भी ठोस जवाब नहीं दे पाए. 

बहरहाल जयपुर के आम लोगों का मानना है कि ओडीएफ फ्री सिटी के नाम पर शहर के साथ छलावा हो रहा है.