close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान यूनिवर्सिटी के पत्रकारिता विभाग मामले पर छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन

 पत्रकारिता विभाग को बंद करने के फैसले के बाद अब लगातार यूनिवर्सिटी में विरोध के स्वर उठने लगे हैं. 

राजस्थान यूनिवर्सिटी के पत्रकारिता विभाग मामले पर छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन
विभाग के साथ ही राजस्थान यूनिवर्सिटी के छात्र नेता विरोध में उतर गए

जयपुर: पिछले 35 सालों से राजस्थान विश्वविद्यालय में संचालित पत्रकारिता विभाग को बंद करने के फैसले के बाद अब लगातार यूनिवर्सिटी में विरोध के स्वर उठ रहे हैं. पिछले तीन दिनों से जहां सिर्फ यूनिवर्सिटी प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर विभाग को बंद नहीं करने की मांग की जा रही थी, वहीं आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियो ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया, यूनिवर्सिटी के गेट से शुरू हुआ प्रदर्शन कुलपति सचिवालय के बाहर ताला लगाने तक चलता रहा.

हरदेव जोशी पत्रकारिता यूनिवर्सिटी फिर से खोलने के फैसले के बाद अब यूनिवर्सिटी में संचालित पत्रकारिता विभाग को बंद करने का फैसला लिया गया है. क्योंकि इस विभाग में पढ़ा रहे शिक्षकों को पत्रकारिता यूनिवर्सिटी में शिफ्ट किया जा रहा है, जिसका इसका खामियाजा विभाग में पढ़ने वाले करीब 75 विद्यार्थियों को भुगतना पड़ेगा. ऐसे में अब विभाग के साथ ही राजस्थान यूनिवर्सिटी के छात्र नेता विरोध में उतर गए हैं.

इसी को लेकर मंगलवार यूनिवर्सिटी के मुख्य गेट पर जमकर विरोध प्रदर्शन हुआ. विभाग में पढ़ने वाले रवि चौधरी का कहना है कि करीब 75 विद्यार्थी विभाग में पढ़ते हैं और नियमित रूप से कक्षाएं भी लगती है. ऐसे में अगर विभाग को शिफ्ट किया जाता है तो इन विद्यार्थियों को करीब 20 किलोमीटर दूरी तय करनी होगी. ऐसे में छात्राओं को भारी परेशानी का सामना करना पड सकता है.

विभाग को बंद करने के फैसले के बाद आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से यूनिवर्सिटी में विरोध प्रदर्शन किया गया. इस दौरान सैंकड़ों की संख्या में यूनिवर्सिटी गेट पर विद्यार्थी जुटे. पहले शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा प्रदर्शन अचानक ही उग्र रूप लिया और छात्रों ने यूनिवर्सिटी को दोनों गेट को बंद कर जमकर विरोध प्रदर्शन किया. जिसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर छात्रों को खदेडा. तब भी प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने कुलपति सचिवालय तक रैली निकाल वीसी सचिवलाय के बाहर प्रदर्शन किया.

यूनिवर्सिटी के चीफ प्रोक्टर एचएस पलसानिया ने बताया की जब हरदेव जोशी पत्रकारिता यूनिवर्सिटी बंद हुई थी तो उसके स्टाफ को राविवि के विभाग में शिफ्ट किया था. लेकिन अब यूनिवर्सिटी फिर से खुलने पर इस स्टाफ को वापस शिफ्ट किया जा रहा है. ऐसे में अब विभाग में कोई शिक्षक नहीं बचा है. इसलिए विभाग को बंद करने का फैसला लिया है. हालांकि विभाग में पढ़ रहे विद्यार्थियों ने ज्ञापन सौंपा है और इसको लेकर यूनिवर्सिटी प्रशासन और सरकार के स्तर पर वार्ता करने के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा.

बहरहाल, 35 सालों से चल रहे विभाग पर अब ताला लटकने की नौबत आ गई है. नहीं विभाग में पढ़ रहे विद्यार्थियों ने विभाग बंद होने की स्थिति में बड़े आंदोलन की चेतावनी दे डाली है. ऐसे में अब यूनिवर्सिटी प्रशासन भी अपने हाथ बंधे हुए होने की बात कहकर अपना पल्ला झाड़ती हुई नजर आ रही है.