अलवर के ट्रिपल मर्डर केस में तीन आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस के अनुसार केरवावाल गांव के रामस्वरूप यादव और गीलाराम यादव पक्ष के बीच जमीन लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा था

अलवर के ट्रिपल मर्डर केस में तीन आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार
50 साल पहले परिवार के लोगों ने खेतों का बंटवारा कर लिया था

प्रमोद कुमार/अलवर: प्रदेश के अलवर के ट्रिपल मर्डर केस में तीन आरोपी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. वहीं पुलिस ने सुरक्षा के मद्देनजर गांव में अतिरिक्त पुलिस फोर्स तैनात की. बता दें कि अलवर के मालाखेड़ा इलाके में केरवावाल गांव में जमीन के विवाद को लेकर ही एक परिवार के तीन लोगों की हत्या के बाद परिवार वालों ने शवों को लेने से इंकार कर दिया था.

काफी समझाने के बाद और गांव में परिवार की सुरक्षा मुहैया कराए जाने के आश्वासन के बाद परिवार वालों ने शव लिए. जिस पर गांव में अतिरिक्त पुलिस फोर्स तैनात की गई है. पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है. बरहाल तीनों शवों को एक साथ दाह संस्कार कर दिया गया और पूरे गांव में पुलिस की तैनाती कर दी गई ताकि परिवार के साथ कोई अनहोनी न हो सके. वहीं मृतक के पुत्र राजेश यादव और प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि करीब 6 से 7 बंदूक के साथ 25 लोगों ने एक साथ हमला किया और फायरिंग की जिसमें उनके परिजनों को गोली लग गई.

पुलिस के अनुसार केरवावाल गांव के रामस्वरूप यादव और गीलाराम यादव पक्ष के बीच जमीन लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा था. 50 साल पहले परिवार के लोगों ने खेतों का बंटवारा कर लिया था, लेकिन दोनों पक्ष में खातेदारी के अनुरूप खेतों की अदला बदली नहीं हो पा रही थी. पिछले दिनों ही ग्रामीणों ने पंचायत कर समझाइश से दोनों पक्षों के बीच राजीनामा करा दिया था. लेकिन फिर भी विवाद पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ. 

रविवार को रामस्वरूप यादव पक्ष के लोग सरसों की कटाई के बाद वापस आ रहे थे. इसी दौरान गिलाराम के पक्ष के देवीराम, लालाराम ओर नेतराम ने उन पर फायरिंग कर दी. इसमें तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी, जबकि 2 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए थे. उनका निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है. गोली लगने से रूपराम यादव (35) मूलचंद (54) और छोटेलाल (58) की मौत हो गई थी. मूलचंद और रूपराम दोनों भाई थे, जबकि छोटेलाल इनका मामा था. वारदात में सुखराम ओर गोपाल घायल हो गए थे. वारदात के बाद गांव में तनाव का माहौल हो गया था. सूचना पर मौक पर पहुंची पुलिस ने स्थिति संभाली. गांव में फिलहाल शांति बनी हुई है.