close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टोंक: अफसरों की अनदेखी के कारण सरकारी जमीनों पर बढ़े अतिक्रमण के मामले

खुलासे में यह बात सामने आई कि सिवायचक जमीन में बिना स्वीकृति के पक्के निर्माण भी बन गए. बिना भूमि रूपांतरण के बिजली के कनेक्शन भी हो गए.

टोंक: अफसरों की अनदेखी के कारण सरकारी जमीनों पर बढ़े अतिक्रमण के मामले
फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है.

पुरूषोत्तम जोशी/टोंक: अजमेर के टोंक जिले के सोप उपतहसील क्षेत्र में अफसरों की अनदेखी और अतिक्रमियों की मनमानी का बड़ा मामला सामने आया है. खबर के मुताबिक टोंक-सवाईमाधोपुर-बूंदी जिले की सीमा से सटे कोटड़ी मोड़ पर हाइवे के किनारे करोड़ों की सरकारी बेशकीमती जमीन है. जिस जमीन पर अवैध अतिक्रमण कर सरपंच और ग्रामीणों द्वारा सरकारी जमीन को खुर्द बुर्द करने का मामला उजागर हुआ है.

तहसीलदार अलीगढ़ की जांच पड़ताल में हुए खुलासे के बाद तहसीलदार ने 84 अतिक्रमियों के चिन्हित कर 60 अतिक्रमियों को तीन महीने की सजा सुनाई है. टोंक जिले के कोटडी मोड़ पर करोड़ों की बेशकिमती जमीन पर रसूखदारों ने पहले तो कच्चे घर बनाए. धीरे-धीरे पक्का निर्माण कर लिया. सालों से यह सिलसिला चला आ रहा था लेकिन जब शिकायत अलीगढ़ तहसीलदार के पास पहुंची तो जांच पड़ताल शुरू हुई और खुलासा जो हुआ वह हैरान करने वाला है.

खुलासे में यह बात सामने आई कि सिवायचक जमीन में बिना स्वीकृति के पक्के निर्माण भी बन गए. बिना भूमि रूपांतरण के बिजली के कनेक्शन भी हो गए और को और आबकारी विभाग ने बिना जमीन के दस्तावेजों को सत्यापित करवाए शराब ठेके का लाइसेंस भी दे दिया. यह हम नहीं बल्कि अलीगढ़ तहसीलदार संदीप चौधरी कह रहे है. जिन्होने मोहम्मदपुरा ग्राम पंचायत के सरपंच पति सहित परिवार और करीब 84 अतिक्रमियों को चिन्हित कर नोटिस जारी किए है.

इतना ही तहसीलदार संदीप चोधरी ने अतिक्रमियों के गिरफ्तारी वारंट जारी कर तीन-तीन महीने की सजा भी सुनाई है. सोप थानाधिकारी को आदेश जारी कर सभई अतिक्रमियों को तुरंत गिरफ्तार कर जेल भेजने के निर्देश दिए गए है.

तहसीलदार की मानें तो अतिक्रमियों ने बिना भूमि रूपांतरण किए सरकारी बेशकीमती जमीन को खुर्द बुर्द भी करने की कोशिश की है. जिसमें पड़ोसी जिलों के भूमि व्यवसाइयों को भेजने का भी मामला सामने आया है. फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है. जल्द ही अवैध अतिक्रमियों के निर्माण ध्वस्त करने की कार्रवाई होगी. आपकों बता दे कोटड़ी मोड़ अतिक्रमण प्रकरण काफी चर्चित रहा है. लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाई. अब देखने वाली बात होगी की कितनी जल्द कार्रवाई अमल में लाई जाती है.