close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में खाकी फिर से हुई शर्मसार, पुलिसकर्मियों पर लगा दुष्कर्म का आरोप

चोरी के एक आरोपी की भाभी ने पुलिसकर्मियों पर हिरासत में रखकर मारपीट और दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है. इस मामले में कई पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई हुई है.

राजस्थान में खाकी फिर से हुई शर्मसार, पुलिसकर्मियों पर लगा दुष्कर्म का आरोप
इस मामले में चूरू एसपी को एपीओ किया गया है. (प्रतीकात्मक फोटो)

सरदारशहर/मनोज प्रजापत: राजस्थान में एक बार फिर से खाकी शर्मसार होती दिख रही है. इस बार चूरू जिले के सरदारशहर पुलिस पर दुष्कर्म के आरोप लगेे हैं. चोरी के एक आरोपी की पुलिस की गिरफ्तारी के बाद मौत हो गई थी. इसके बाद आरोपी की भाभी ने पुलिसकर्मियों पर हिरासत में रखकर मारपीट और दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है.

चुरू जिले के सरदारशहर तहसील के पुलिस थाने में गत शनिवार देर रात्रि को चोरी के मामले में पुलिस हिरासत में लिए गए नेमीचंद नायक निवासी सोनपालसर की तबीयत बिगड़ने पर मौत हो गई. पुलिस के अनुसार, पुलिस युवक को अस्पताल लेकर गई, जहां उसकी मौत हो गई. तीन दिन पहले चोरी के छह महीने पुराने मामले में पुलिस ने हिरासत में लिया था. थाने में मौत हो जाने के बाद पुलिस का कहना था कि बेचैनी की शिकायत पर युवक को अस्पताल ले जाया गया, जहां एक घंटे बाद उसकी मौत हो गई. प्रारंभिक जांच में मौत का कारण ह्रदय गति रुकना बताया गया था.

परिजनों का पुलिस हिरासत में मौत का आरोप
वहीं, मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया कि पुलिस हिरासत में ही नेमीचंद की मौत हो गई थी. घटना के बाद 7 तारीख रविवार को पूरे दिन भर बवाल चलता रहा. अंत में न्यायिक मजिस्ट्रेट की जांच पर नेमीचंद के परिजन माने. लेकिन रात 10 बजे पुलिस ने जोर जबरदस्ती कर शव का अंतिम संस्कार कर दिया. जबकि हिंदू रीति रिवाज के अनुसार रात्रि 10:00 बजे कभी भी अंतिम संस्कार नहीं किया जाता है. 

मृतक की भाभी को हिरासत में रखने का आरोप
वहीं इस पूरे प्रकरण में पुलिस ने मृतक की भाभी को भी पुलिस हिरासत में रखा और बर्बरता पूर्ण मारपीट का आरोप लगाया गया. लेकिन तत्कालीन थानाधिकारी रणवीर सिंह ने पीड़ित महिला को हिरासत लेने की बात से साफ इंकार किया था.

पीड़ित महिला थी गायब
जिसके बाद से ही पीड़ित महिला गायब चल रही थी. मामले में 10 तारीख को चूरू बीकानेर आईजी जोस मोहन के सरदार शहर का दौरे के दौरान पीड़ित महिला के ससुर ने आईजी को ज्ञापन देकर महिला के गायब होने की बात कही. इस दौरान अगले दिन महिला गंभीर स्थिति में घर पहुंची. हालत गंभीर देखते हुए महिला को ग्रामीणों ने तुरंत जयपुर में बेहतर इलाज के लिए भर्ती कराया.

महिला ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप
अब मामले में महिला ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती पीड़िता ने पुलिस पर आरोप लगाया कि चोरी के आरोप में सरदारशहर थाना पुलिस उसके देवर के साथ उसे भी उठा ले गई. इस दौरान थाने में शराब पीकर पांच-छह पुलिसकर्मी उसके साथ मारपीट करते थे. इस दौरान उन्होंने तीन दिन तक बांधकर व लटकाकर पीटा. इस दौरान पैरों के नाखून खींचकर उखाड़ डाले, आंख फोड़ दी. महिला ने थानाधिकारी सहित अन्य पुलिसकर्मियों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है. पीड़िता ने एसएमएस अस्पताल परिसर में बने थाने में यह पत्र सौंपते हुए आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की. 

प्रशासन ने अपनाया सख्त रवैया
इस मामले की जानकारी मिलने के बाद प्रशासन ने सख्त रवैया अख्तियार किया है. कार्मिक विभाग के संयुक्त शासन सचिव आशीष मोदी ने देर रात चूरू पुलिस अधीक्षक राजेंद्र कुमार को एपीओ कर दिया. वहीं सरदारशहर डीएसपी भंवरलाल मेघवाल को सस्पेंड कर दिया गया है. इससे पूर्व इस मामले में एसपी राजेंद्र कुमार ने थानाधिकारी सहित 8 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया था. वहीं 26 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर किया था.

आलाधिकारियों पर लिया गया एक्शन
जानकार बताते हैं कि चूरू एसपी की भी लापरवाही मानी गई कि उन्होंने गंभीर मामले को हल्के में लिया. वहीं सरदारशहर सीओ की लापरवाही भी मानी गई कि उन्होंने मामले का सुपरविजन नहीं किया. चूंकि यह उनकी सीधी जिम्मेदारी बनती थी. इसलिए पुलिस के आला अधिकारियों पर कार्रवाई हुई है.