close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भूपेन हजारिका को लंबे समय से भारत रत्न देने की मांग हो रही थी : सर्बानंद सोनोवाल

मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा कि 70वां गणतंत्र दिवस असम के लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि केंद्र सरकार ने इस अवसर पर डॉक्टर भूपेन हजारिका को भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया. 

भूपेन हजारिका को लंबे समय से भारत रत्न देने की मांग हो रही थी : सर्बानंद सोनोवाल
मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा कि हजारिका को भारत रत्न देने की मांग लंबे समय से असम के लोग कर रहे थे. सोनोवाल ने इसके लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया. (फोटो साभार @sarbanandsonwal)

गुवाहाटी: असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने 70वें गणतंत्र दिवस के मौके पर शनिवार को ‘श्रद्धांजलि कानन’ में शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की. सोनोवाल ने इस मौके पर डॉक्टर भूपेन हजारिका की तस्वीर पर माल्यार्पण करते हुए लोगों से मानवता के लिए बढ़-चढ़कर काम करने की अपील की. 

उन्होंने कहा कि 70वां गणतंत्र दिवस असम के लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि केंद्र सरकार ने इस अवसर पर डॉक्टर भूपेन हजारिका को भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि हजारिका को भारत रत्न देने की मांग लंबे समय से असम के लोग कर रहे थे. सोनोवाल ने इसके लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया.  मुख्यमंत्री ने पद्मश्री पुरस्कार के लिए राज्य के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉक्टर इलियास अली और विज्ञानी उद्धव भराली को भी बधाई दी. 

बता दें शुक्रवार को घोषणा की गई कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रसिद्ध संगीतकार-गायक भूपेन हजारिका और भारतीय जनसंघ के नेता एवं समाजसेवी नानाजी देशमुख को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ प्रदान किया जाएगा. एक आधिकारिक बयान में सरकार ने कहा कि देशमुख और हजारिका को मरणोपरांत इस सम्मान के लिए चुना गया है.

चार साल के अंतराल के बाद भारत रत्न पुरस्कार दिया जाएगा. वर्ष 2015 में नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक मदन मोहन मालवीय को इस सम्मान से नवाजा गया था.

पीएम मोदी ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि हजारिका के गीत और संगीत को हर पीढ़ी के लोग पसंद करते हैं. उन्होंने ट्वीट किया, 'उनसे न्याय, सौहार्द और भाइचारे का संदेश प्रसारित होता है. उन्होंने दुनियाभर में भारतीय संगीत परंपराओं को लोकप्रिय कराया. खुश हूं कि भूपेन दा को भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा.' 

(इनपुट - भाषा)