close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

स्काईमेट का दावा, दक्षिण पश्चिम मानसून की केरल में दस्तक

मौसम संबंधी विश्लेषण व पूर्वानुमान जारी करने वाली निजी कंपनी स्काइमेट ने कहा कि दक्षिण पश्चिम मानसून ने सोमवार (28 मई) को केरल में दस्तक दे दी.

स्काईमेट का दावा, दक्षिण पश्चिम मानसून की केरल में दस्तक
इससे पहले स्काइमेट ने अपने पूर्वानुमान में कहा था कि मानसून 28 मई को केरल में प्रवेश करेगा.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: मौसम संबंधी विश्लेषण व पूर्वानुमान जारी करने वाली निजी कंपनी स्काइमेट ने कहा कि दक्षिण पश्चिम मानसून ने सोमवार (28 मई) को केरल में दस्तक दे दी. इसके साथ देश में दक्षिण पश्चिम मानसूनी बरसात का मौसम शुरू हो गया है. लेकिन भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने अपने सोमवार (28 मई) को सुबह 8 बजकर 15 मिनट वाले मौसम बुलेटिन में कहा कि मानसून अगले 24 घंटे में केरल पहुंचेगा. स्काइमेट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जतिन सिंह ने बताया कि कहा, "केरल में मानसून जैसी स्थितियां है और हम कह सकते हैं वार्षिक वर्षा के मौसम का आगाज हो गया है. "

इससे पहले स्काइमेट ने अपने पूर्वानुमान में कहा था कि मानसून 28 मई को केरल में प्रवेश करेगा जबकि आईएमडी का अनुमान था कि मानसून 29 मई को दस्तक देगा. आईएमडी के अतिरिक्त महानिदेशक मृ्त्युंजय महापात्र ने कहा कि मानसून के अगले 24 घंटे में केरल पहुंचने की उम्मीद है. मौसम विभाग के मुताबिक, यदि 10 मई के बाद, केरल में स्थापित 14 मौसम निगरानी केंद्रों में से 60 प्रतिशत में लगातार दो दिन 2.5 मिली मीटर या उससे अधिक की वर्षा लगातार दो दिन तक दर्ज की जाती है, तो दूसरे दिन केरल में मानसून के प्रवेश की घोषणा की जा सकती है. यह मानसून आने के मुख्य मानदंडों में से एक है. 

केरल में तूफान की आशंका
आईएमडी के मुताबिक, भारत की साउथ-वेस्‍टर्न कोस्‍टलाइन के पास वेस्‍ट सेंट्रल अरब सागर में हवा की रफ्तार 90 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है. आईएमडी के मुताबिक, समुद्र में लहरें 3 मीटर से लेकर 3.2 मीटर तक ऊपर जा सकती हैं. विभाग ने मछुआरों को सलाह दी है कि वह अगले 12 घंटे तक वेस्‍टसेंट्रल अरब सागर में मछली पकड़ने न जाएं. दरअसल, चक्रवाती तूफान मेकुनु का खतरा अभी टला नहीं है. तूफान 170 से 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आ सकता है. हालांकि, अभी यह ओमान के आसपास है, लेकिन हवाओं के साथ यह केरल तमिलनाडु के तटीय इलाकों तक पहुंच सकता है. 

लगातार दूसरे साल सबसे ज्यादा तापमान
मौसम विभाग के मुताबिक, लगातार दूसरे साल ऐसा हुआ है जब मई के आखिरी हफ्ते में सबसे ज्यादा तापमान बना हुआ है. पिछले साल भी नौतपा के दौरान तापमान 45 डिग्री के ऊपर था. दिल्ली-एनसीआर में पारा 46 डिग्री के पार निकल चुका है. हालांकि, अगले कुछ दिनों में इसके 45 डिग्री के ही आसपास बने रहने की संभावना है. लेकिन, गर्म हवाओं के चलते गर्मी और उमस झेलनी होगी. 

सीजन का सबसे गर्म रहा शनिवार
मौसम विभाग के मुताबिक, सीजन में अब तक का सबसे गर्म दिन शनिवार को रहा. दिल्ली-एनसीआर में पारा 46 डिग्री के पार निकला. साथ ही हवा में दबाव के कारण न्यूनतम तापमान में भी 1 डिग्री की वृद्धि हुई. वहीं, रात में भी तापमान 30 डिग्री के आसपास रहा. ऐसे में शनिवार के दिन रिकॉर्ड गर्मी दर्ज की गई.

इनपुट भाषा से भी