close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

घर में चोरी करने आया था शख्स, 80 साल की महिला ने जकड़ लिया कॉलर, और फिर...

बुजुर्ग महिला सत्यभामा ने कहा, 'जैसी ही मेरी नींद खुली तो मैंने किसी को मेरे गले के गहने निकालते हुए दिखा. मैने देखा तो...

घर में चोरी करने आया था शख्स, 80 साल की महिला ने जकड़ लिया कॉलर, और फिर...
इस चोर के साथ मुकाबला करते हुए बुजुर्ग महिला को हल्की चोटें आई . लेकिन उस दर्द के बावजूद चोर पकडे जाने के खुशी उन्हें ज्यादा है.

नागपुरः महाराष्ट्र के नागपुर में 80 साल की बुजुर्ग महिला ने एक चोर का मुकाबला करके उसे हिरासत में भेज दिया. नागपुर के इंद्रप्रस्थ नगर में रहने वाली सत्यभामा खवसे नामकी 80 साल की बुजर्ग महिला ने यह कर दिखाया है. इस बुजुर्ग महिला ने जिस चोर को पकड़ा है उस पर पहले से पुलिस थाने में चोरी के कई मामले दर्ज है. नागपुर के इंद्रप्रस्थ इलाके में बाबडे ले आऊट में 80 साल की सत्यभामा खवसे का परिवार रहता है. 27 मई को दोपहर को यह बुजुर्ग महिला अपने घर के हॉल में सोई थी.तभी यह घटना घटी.

सत्यभामा के बेटे देविदास खवसे ने बताया, 'दोपहर 02.30 बजे मेरी 80 साल की बुढ़ी मां हॉल मे ही सो रही थी. उनके घर का दरवाजा खुला था. तभी वॉल कंपाउंड को लांघकर चोर अंदर आ गया. बुढी मां सो रही थी. उसकी नजर उनके गले के गहनों पर पड़ी .उन्हें गहरी नींद में देख उसने गले से सोने के गहने निकालना शुरु किया. उनकी नींद खुली तो सामने चोर खडा था. उससे मुकाबला कर उसे पकडा.'

वहीं बुजुर्ग महिला सत्यभामा ने कहा, 'जैसी ही मेरी नींद खुली तो मैंने किसी को मेरे गले के गहने निकालते हुए दिखा. मैने देखा तो एक शख्स था .जिसके शर्ट की कॉलर मैंने पकड ली और मुकाबला करते हुए मदद की गुहार लगाई. मेरा बेटा देविदास दौडकरआया .साथ ही पडोसी ने भी आवाज सुनी तो वह भी आए. चोर को पकडकर पुलिस के हवाले कर दिया गया. 

यह भी पढ़ेंः नागपुर स्थित RSS मुख्यालय में संघ प्रमुख मोहन भागवत से मिले रतन टाटा

नागपुर एमआईडीसी पुलिस थाने के उपनिरीक्षक राहुल शेजव ने बताया कि इस चोर का नाम प्रदीप करदम है. उसका नाम नागपुर एमआईडीसी पुलिस थाने में दर्ज चोरी के कई मामले में है. 

इस चोर के साथ मुकाबला करते हुए बुजुर्ग महिला को हल्की चोटें आई . लेकिन उस दर्द के बावजूद चोर पकडे जाने के खुशी उन्हें ज्यादा है. अब यह कहानी सुनकर इलाके के लोग भी इस बुजुर्ग महिला से मिलने उनके घर पहुंच रहे है.