close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: भगवान सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ मईया को किया विदा, ग्रहण किया प्रसाद

सूर्य उपासना के चार दिवसीय महापर्व छठ पूजा(Chhath Festival) महापर्व के समापन पर सूर्य उदय पर अर्घ्य दिया गया. 

जयपुर: भगवान सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ मईया को किया विदा, ग्रहण किया प्रसाद
भगवान भाष्कर को अर्ध्य देती व्रत करने वाली महिलाएं.

दामोदर प्रसाद, जयपुर: सूर्य उपासना के चार दिवसीय महापर्व छठ पूजा(Chhath Festival) महापर्व के समापन पर सूर्य उदय पर अर्घ्य दिया गया. इस दौरान छठ ने कई प्रकार के पकवान. खीर और रोटी से पूजा की गई. केला के पत्ते पर कच्चा चावल से बनी खीर, तुलसी के पत्ते आदि रखकर भगवान सूर्य देव छठी मईया को भोग लगाया गया. उसके बाद व्रती ने प्रसाद ग्रहण किए. 

इससे पहले शनिवार को अस्ताचलगामि सूर्य को पहला अर्घ्य अर्पित किया गया. जिसके लिए ठेकुआ प्रसाद खास तैयार किया गया है. सुबह उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर व्रत का समापन किया. जयपुर शहर के गलता तीर्थ के साथ ही कानोता बांध, प्रताप नगर सहित कई जगह सामूहिक रूप से सूर्य को अर्घ्य दिया गया. लोगों ने संतान, परिवार की सुख-समृद्धि की कामना के लिए आराधना की. अब रविवार को उदयगामी सूर्य को अर्घ्य देकर व्रत का पारण करेंगे. गलता में लोगों ने आज रात से ही डेरा जमा लिया है. रातभर महिलाएं छठ मैया के गीतों से गलता घाटी को गुलजार करेंगी. सुबह सूर्योदय के साथ ही कुंड में खड़े होकर अर्घ्य देंगे.

कोटा में भी चार दिवसीय छठ पूजा पर्व धूम धाम से मनाया जा रहा है. यहां के किशोर सागर तालाब किनारे, बारहदरी पर बिहार के रहने वाले लोगों ने छठ पूजा के दौरान डूबते हुए सूर्य की पूजा की. इस दौरान तालाब में खड़े होकर कई महिलाओं व पुरुषों ने डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया. इस दौरान सुख शांति के साथ मंगलकामना की. पूजा के दौरान बड़ी संख्या में महिला, पुरुष व बच्चे शामिल रहे. व्रत के दौरान निर्जला रह महिलाओ ने सूर्य भगवान को प्रसाद चढ़ाई. जिसके बाद कल सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य देने तैयारी में व्रर्ती जुट गए.