क्या महाराष्ट्र की सत्ता से बाहर होगी कांग्रेस? राउत से मुलाकात पर फडणवीस ने कही ये बात

विपक्ष के नेता फडणवीस ने कहा, 'शिवसेना से हाथ मिलाने या (राज्य में) सरकार गिराने का हमारा कोई इरादा नहीं है. जब यह खुद ब खुद गिरेगी, तब हम देखेंगे.'' उन्होंने  यह भी कहा कि यह मीटिंग शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' के एक इंटरव्यू से संबंधित थी. 

क्या महाराष्ट्र की सत्ता से बाहर होगी कांग्रेस? राउत से मुलाकात पर फडणवीस ने कही ये बात
फाइल फोटो (जी मीडिया)

मुंबईः शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने रविवार (28 सितंबर) को मुंबई के एक होटल में एक दूसरे से मुलाकात की. दोनों के मिलने के बाद लगता है कि महाराष्ट्र में महागठबंधन (MAV) सरकार के बीच कलह की स्थिति बन चुकी है. संजय राउत और देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात ने महाराष्ट्र की राजनीति में तमाम तरह की अटकलों को जन्म दे दिया है. दोनों दलों के नेता पिछले साल हुए चुनावों के बाद पहली बार एक दूसरे से मिले हैं. होटल में दोनों के बीत 2 घंटे की मीटिंग चली. 

सूत्रों के अनुसार, राउत-फडणवीस मुलाकात को लेकर कांग्रेस और एनसीपी के बीच नाराजगी है. इन दोनों नेताओं की मुलाकात के अलावा रविवार को ही महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बालासाहेब थोराट, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच भी मुंबई में एक मीटिंग हुई. राउत और फडणवीस की मीटिंग से नाराज कांग्रेस और एनसीपी के बड़े नेताओं ने सीएम उद्धव ठाकरे के आधिकारिक आवास वर्षा में करीब 2 घंटे तक एक बैठक की. हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि दोनों नेताओं के बीच यह बैठक किस मुद्दे को लेकर हुई और उनके बीच क्या-क्या बातचीत हुई. इन मुलाकातों से महाराष्ट्र सत्ता के गलियारों में सियासी अटकलों का दौर तेज चल पड़ा है. 

ये भी पढ़ें- राउत-फडणवीस मुलाकात पर गठबंधन धर्म का हवाला, कांग्रेस ने सीएम उद्धव ठाकरे से की ये मांग

गौरतलब है कि पिछले साल महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री पद साझा करने के मुद्दे को लेकर शिवसेना ने भाजपा से अपना नाता तोड़ लिया था. इसके बाद उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने राज्य में गठबंधन सरकार बनाने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के साथ हाथ मिलाया था.  

सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं ने इस मुलाकात से यह स्पष्ट संकेत दे दिया है कि तीनों दलों के नेताओं को किसी भी ऐसी कार्रवाई में खुद को शामिल नहीं करना चाहिए, जो अघाड़ी गठबंधन को प्रभावित करे या महाराष्ट्र सरकार पर सवाल उठाए. थोराट ने जोर देकर कहा कि कांग्रेस कृषि बिल का विरोध कर रही है लिहाजा यह बिल महाराष्ट्र में लागू नहीं होना चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि गठबंधन सहयोगी के रूप में, शिवसेना को इस मुद्दे पर पार्टी का खुलकर साथ देना चाहिए. 

राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता फडणवीस ने कहा, 'शिवसेना से हाथ मिलाने या (राज्य में) सरकार गिराने का हमारा कोई इरादा नहीं है. जब यह खुद ब खुद गिरेगी, तब हम देखेंगे.'' उन्होंने  यह भी कहा कि यह मीटिंग शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' के एक इंटरव्यू से संबंधित थी. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.