close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रतापगढ़ के जाखम और माही नदियों का बढ़ा जलस्तर, कई इलाके जलमग्न

प्रतापगढ़ जिले के कुछ हिस्सों में जाखम और माही नदियों के जल स्तर में वृद्धि के कारण बाढ़ जैसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है.

प्रतापगढ़ के जाखम और माही नदियों का बढ़ा जलस्तर, कई इलाके जलमग्न
प्रतापगढ़ जिले के सौ से अधिक गांव का संपर्क एक-दूसरे टूट गया है.

प्रतापगढ़: राजस्थान में मुसलाधार बारिश ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है. एक ओर जहां प्रदेश में हो रही लगातार बारिश से सड़कों पर पानी का जलजला आ गया है, वहीं, दूसरी ओर प्रदेश के पानी के कारण नदियों का जलस्तर भी बढ़ गया है. वहीं, प्रतापगढ़ जिले के कुछ हिस्सों में जाखम और माही नदियों के जल स्तर में वृद्धि के कारण बाढ़ जैसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है.

खबर के मुताबिक, प्रतापगढ़ जिले के सौ से अधिक गांव का संपर्क एक-दूसरे टूट गया है. सैंकड़ों लोग एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए पुलिया पर बहते पानी में फंसे हुए हैं. कई लोग तेज बहते पानी में से निकलने का प्रयास कर रहे हैं. कर्मममोचिनी, जाखम, वजपुरा आदि नदियां उफान पर है. यहां के कई गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क कट चुका है. माही नदी का गेट खालने के बाद यहां स्थित माही मंदिर ने जल समाधि ले ली है.

 

वहीं, पारसोला थाना क्षेत्र में भी माही नदी उफान पर है. माही बजाज सागर के गेट खोलने पर मूंगाणा नरवाली रास्ता पूरी तरह से बन्द हो गया है. पुलिस और प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है. पारसोला थाना अधिकारी केसू लाल खटीक अपनी टीम के साथ आने जाने वाले यात्रियों को मदद कर रहे हैं. मुंगाना से बांसवाड़ा जाने वाला संपर्क भी टूट गया है. माही नदी पर पुल पर 8 फीट ऊपर से पानी जा रहा है.

हालांकि राजस्थान में बाढ़ और बारिश से बिगड़े हालात पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को सीएमओ में एक हाईलेवल बैठक बुलाई. बैठक में सीएम गहलोत ने सबसे ज्यादा बारिश से प्रभावित इलाकों में सरकार की ओर से चलाए जा रहे राहत बचाव कार्यों की समीक्षा की. 

सीएम गहलोत ने निर्देश दिए हैं कि धौलपुर में आवश्यकता होने पर प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए. बारिश प्रभावित जिलों के प्रभारी सचिव को हालात का जायजा लेने और राहत कार्यों की निगरानी के भी निर्देश दिए हैं. बैठक में आपदा प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल, मुख्य सचिव डी बी गुप्ता, शासन सचिव जल संसाधन और शासन सचिव आपदा प्रबंधन समेत तमाम अधिकारी मौजूद रहे.