close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: करोड़ों की लागत से बना स्टेट हाईवे हुआ बदहाल, यात्री परेशान

गारंटी पीरियड के दौरान ही सड़क से डामर की परते कई बार उधड़ चुकी है. चाकसू से कादेड़ा कस्बा तक तो स्टेट हाईवे के हाल बेहाल है.

जयपुर: करोड़ों की लागत से बना स्टेट हाईवे हुआ बदहाल, यात्री परेशान
चाकसू से फागी 28 किलोमीटर तक के स्टेट हाईवे की हालत बहुत खराब हो चुकी है.

चाकसू: केंद्रीय सड़क निधि परियोजना के तहत करोड़ों रुपए की लागत से दौसा से कुचामन तक, डामरीकरण व सीसी रोड से स्टेट हाईवे तैयार किया गया था. इस मार्ग पर लवाण, तूगा, चाकसू, फागी, दूदू सांभर सभी छोटे बड़े गांव कस्बे आते हैं. 22 मई 2016 में शुरू किया गया स्टेट हाईवे निर्माण का कार्य 21 अगस्त 2017 में पूरा हुआ. इसके रखरखाव की समय अवधी 3 वर्ष तक कि है यानि अगस्त 2020 तक है. मगर यह गारंटी पीरियड से पहले ही पूरी सड़क दम तोड़ने लगी है. जबकि कई सालों तक सड़क सही सलामत रहनी चाहिए. गारंटी पीरियड के दौरान ही सड़क से डामर की परते कई बार उधड़ चुकी है. चाकसू से कादेड़ा कस्बा तक तो स्टेट हाईवे के हाल बेहाल है. 

बता दें कि, चाकसू से फागी 28 किलोमीटर तक के स्टेट हाईवे की हालत बहुत खराब हो चुकी है. यह स्टेट हाइवे नंबर दो के नाम से जाना जाता है. इसकी हालत गारंटी पीरियड के दौरान ही खराब हो चुकी है. यह सड़क मार्ग नेशनल हाईवे 8 और 12 से जुड़ा हुआ है. आलम यह है कि स्टेट हाईवे का निर्माण के साथ ही इसका टूटने का सिलसिला जारी हो चुका था. ऐसे में क्षेत्र में आई तेज बरसात के बाद तो स्टेट हाईवे पूरी तरह जवाब दे चुका है. जगह-जगह से पूरा सड़क मार्ग टूट कर बिखर गया है. 

कई जगह तो अब सड़क के अवशेष ही बचे हैं. कादेड़ा व सेवापूरा में हाल ज्यादा खराब है. वाहनों के गुजरने के दौरान धूल के गुबार की वजह से राहगीर परेशान हैं. वहीं, रही कसर गड्ढो में गिट्टी पत्थर डालकर पूरी कर दी गई है. गर्मी में आए तेज अंधड़ से रेलवे स्टेशन के पास लगे संकेतक और सूचना बोर्ड भी गिर गए. जिनकी प्रशासन ने आज तक सुध नहीं ली. स्थानीय लोग अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों को कोसने के लग रहे है लेकिन सुनवाई नहीं हुई है. 

तकनीकी जानकारों की मानें तो सड़क निर्माण के समय घटिया मिट्टी (मोरिंडा) काम में ली गई है. उस कारण सड़क वाहनों का दबाव सहन नहीं कर पाई और अब परते उतर रही है. हालांकि, जिन जगहों पर बार-बार समस्या आ रही है वह नए सिरे से नई परत बनाने से समस्या से निजात मिल सकती है.

राहगीर अशोक चंदेला के मुताबिक जयपुर जिले की सबसे खराब रोड़ है ये यहां पे सड़क पर कई जगह तो एक से दी फ़ीट गहरे गड्ढे बने हुए हैं. जिससे गाड़ी का चेम्बर ही नीचे अड़ जाता है. इस रोड पर से गुजरने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. जब इस विषय मे सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिशासी अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने हमेशा कि तरह रटा रटाया जवाब दिया. सड़क अधिक बरसात के कारण टूट गई है. 

करोड़ो की लागत से बनाए गए स्टेट हाइवे की बहुत बुरी हालत है, इसमे कई जगह गहरे गढ़े बने हुए हैं. वहीं, इन गड्ढ़ो को भरने के लिए केवल गिट्टी डाल दी जिससे वाहनों के टायरों से पत्थर उछलकर कई वाहनों के सीसे टूट चके है. अब देखना ये होगा की मामले को अधिकारियों के संज्ञान में लाने के बाद अब अधिकारी कुछ कार्यवाही करते है या फिर हमेशा की तरह लीपा-पोती कर गड्ढ़ों में गिट्टी डालकर इतिश्री कर ली जाएगी.

(अमित यादव, मुकुट शर्मा)