close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नागौर: डीडवाना के सिंघम SDM को देख छूटा अफसरों का पसीना, जानिए पूरा मामला

नागौर के इस एसडीएम साहब के सरकारी हंटर से अधिकारी और कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है.

नागौर: डीडवाना के सिंघम SDM को देख छूटा अफसरों का पसीना, जानिए पूरा मामला
डीडवाना के उपखण्ड अधिकारी सुरेश कुमार मेघवाल. (फोटो साभार: फेसबुक)

डीडवाना(नागौर): नागौर जिले के डीडवाना क्षेत्र के जायल में गरीबों को मिलने वाली सरकारी योजनाओं में लूट का खुलासा हुआ. इस दौरान न्याय के लिए जायल के एसडीएम साहब 'सिंघम' बन गए. इस दौरान सिंघम साहब ने जांच के दौरान भ्रष्टाचार के मामला सामना आया. एसडीएम साहब के सरकारी हंटर से अधिकारी और कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है.

उपखण्ड अधिकारी सुरेश कुमार मेघवाल के कार्यभार ग्रहण करने के बाद क्षेत्र के जरूरतमंद लोग खाद्य सुरक्षा में नाम जुड़वाने की अपील कर रहे थे. इस दौरान जांच में उन्हें वास्तविक हकदार सरकारी योजना के साभ से वंचित दिखें. जबकि लाभार्थियों का आंकड़ा 84 प्रतिशत से अधिक थी.

जांच में देखिए क्या आया सामने
जांच के दौरान एसडीएम साहब ने सरकारी कार्मिकों की राशनकार्ड संख्या के आंकड़े मंगवा लिए. इस दौरान सिंघम ने सरकारी कार्मिकों को लाभार्थी योजनाओं से हटने की अपील की. उनकी अपील के बावजूद कई कार्मिकों ने इस मांग को अनसुना कर दिया. आखिरकार एसडीएम साहब को एक्शन मोड में आना पड़ा जिसके नतीजे चौंकाने वाला दिख रहा है. 

97 कर्मचारियों को मिला नोटिस

उपखण्ड में खाद्य सुरक्षा योजना के तहत लाभ उठा रहे 97 सरकारी कार्मिकों को नोटिस जारी किए गए हैं. इसके अलावा कार्मिकों से 9 लाख 80 हजार की वसूली के नोटिस जारी किए गए हैं. 

जुर्माना राशि हुई जमा
बताया जा रहा है कि अब तक 26 कार्मिकों ने 3 लाख 25 हजार जुर्माना राशि खाद्य सुरक्षा योजना में बैंक चालान से जमा करवा दिए हैं. आंकड़ों के अनुसार, 97 लोगों में से 26 ने ही सरकारी खजाने में पैसे जमा करवाये हैं.

SDM की मुहिम से मिला पात्र परिवारों को लाभ
सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, छात्रवृत्ति सहित गरीब और कमजोर वर्ग के लिए संचालित योजनाओं का लाभ उठाने वाले सरकारी अधिकारी, कर्मचारी को चिन्हित कर कार्रवाई की जा रही है. एसडीएम के इस कार्रवाई से आम लोग काफी खुश दिख रहे हैं.