close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चूरू: दीपावली पर 'कलेक्टर पापा' का इंतजार, उम्मीद के साथ दरवाजा निहार रही है बेटी

चूरू(Churu) के बालिका आश्रय गृह में रहने वाली 13 साल की लक्ष्मी को इस दीवाली पर भी कलेक्टर पापा का इंतजार है.

चूरू: दीपावली पर 'कलेक्टर पापा' का इंतजार, उम्मीद के साथ दरवाजा निहार रही है बेटी
चूरू की लक्ष्मी को भी अपने कलेक्टर पापा का इंतजार है.

चूरू: चूरू(Churu) के बालिका आश्रय गृह में रहने वाली 13 साल की लक्ष्मी को इस दीपावली पर भी कलेक्टर पापा का इंतजार है. दीवाली नजदीक है और लक्ष्मी बालिका आश्रय गृह के मुख्यद्वार की ओर टकटकी लगाए है. काश लक्ष्मी के पापा भी मिलने आए और दीपावली पर कुछ कपड़े और उपहार लक्ष्मी को मिलें.

जानिए क्या है मामला
दरअसल पूर्व सरकार में राज्य सरकार की बेटी योजना के तहत प्रदेश के सभी जिला कलेक्टर को ऐसी बेटियों को गोद लेना था. जिनके माता-पिता नहीं थे. सरकार के निर्देश थे कि कलेक्टर उन बेटियों से समय-समय पर मिलते रहेंगे. उनका ख्याल रखेंगे. और त्यौहार पर बेटियों को उपहार भी देंगे.

जानकारी के अनुसार, इसी योजना में के तहत चार साल पहले चूरू के तत्कालीन कलेक्टर ललित गुप्ता ने चूरू की लक्ष्मी को गोद लिया था. और पिछली दिवाली कलेक्टर ललित गुप्ता ने गोद ली बेटी लक्ष्मी को गिफ्ट भी दिए थे.

कलेक्टर ललित गुप्ता के ट्रांसफर के बाद कलेक्टर मुक्तानंद अग्रवाल आए. जो एक बार लक्ष्मी से मिलने गए थे. फिलहाल मौजूदा कलेक्टर संदेश नायक को करीब दस महीने का समय हो चुका है, लेकिन संदेश नायक एक बार भी लक्ष्मी से मिलने नहीं गए हैं. दिवाली करीब है तो एसे में 13 साल की लक्ष्मी को उम्मीद है कि इस दीपावली पर वे अपनी बेटी से मिलने के लिए जरूर आएंगे.

लक्ष्मी के अनुसार गोद लेने वाले कलेक्टर पिता ललित गुप्ता लक्ष्मी का बहुत ख्याल रखते थे. होली, दीवाली उसे मिठाई व नए कपड़े दिलाते थे. इतना ही नहीं सप्ताह में एक बार गाड़ी भेजकर घर बुलाते थे. कुछ दिन पहले ही कलेक्टर गुप्ता की पत्नी ने फोन कर लक्ष्मी से हालचाल पूछा था.

लक्ष्मी वर्तमान में सरदारशहर(Sardarsahar) के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय अंजूमन में 9वीं कक्षा में पढ़ रही है. सरदारशहर में ही छात्रावास में रह रही है. छुट्टियों के मौके पर वो चूरू के बालिका आश्रय गृह में रहने आती है. दीवाली की छुट्टियां होने के कारण वो अब चूरू के बालिका आश्रय गृह में रह रही है. वर्तमान जिला कलक्टर संदेश नायक के अनुसार उन्हें गोद ली हुई बेटी लक्ष्मी के बारे में जानकारी नहीं है.

Laksmi Upadhyay, News Desk