close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फसल बीमा योजनाः किसानों का बकाया लौटाने के लिए शिवसेना ने दिया 15 दिन अल्टीमेटम

उद्धव ठाकरे ने बीम कंपनियों डराते हुए कहा था कि ये सारी कंपनियां जानें कि इन सारी बीमा कंपनियों के हेड आफिस मुंबई में है और अगर किसानों को पैसे नहीं मिले तो इन बीमा कंपनियों पर ताला डाल दिया जाएगा.    

फसल बीमा योजनाः किसानों का बकाया लौटाने के लिए शिवसेना ने दिया 15 दिन अल्टीमेटम

 

मुंबईः मायानगरी मुंबई के बीकेसी इलाके में बीमा कंपनियों द्वारा किसानों को दिए जाने वाले पैसे को लेकर मोर्चा निकाला गया. शिवसेना के इस मोर्चे की अगुवाई खुद शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे ने किया. मोर्चे में शिवसेना के तमाम बड़े नेता मौजूद रहे. जैसा कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे पिछले काफी दिनों से ये कहते आ रहे हैं कि बीमा कंपनियां किसानों के फसल खराब होने पर पैसे नहीं दे रही है इसके खिलाफ मोर्चा निकालें. उद्धव ठाकरे ने बीम कंपनियों डराते हुए कहा था कि ये सारी कंपनियां जानें कि इन सारी बीमा कंपनियों के हेड आफिस मुंबई में है और अगर किसानों को पैसे नहीं मिले तो इन बीमा कंपनियों पर ताला डाल दिया जाएगा.    

उद्धव ठाकरे ने इस दौरान दिए अपने संबोधन में कहा, 'ये योजना प्रधानमंत्री फसल योजना है प्रधानमंत्री ने 75 हज़ार करोड़ की योजना किसानों के लिए है, ना की बीमा कंपनियों के लिए? बीमा कम्पनियों को मैं हाथ जोड़कर बिनती करता हूं कि शिवसेना को आक्रामक होने के लिए मजबूर मत करो'

उद्धव ठाकरे ने पूछा, 'जब कर्ज माफी हुई है तो वो पैसे गए कहा हैं? बीमा कम्पनी को मैं इशारा देता हूं कि 15 दिनों में जितनी भी लंबित मामले है उसे पूरा किया जाए. उन्होंने कहा कि आज ये मोर्चा शांतिपूर्ण है, लेकिन 16वें दिन ये मोर्चा शांत नहीं रहेगा.'

उद्धव ठाकरे ने कहा, 'जो जवान सीमा पर लड़ रहे है ये किसकी संतान है? ये संतान किसानों की है.अनाज किसान देता है सुरक्षा के लिए किसान का बेटा बॉर्डर पर है. इनका खयाल हमें रखना है.'संदेश साफ है कि शिवसेना फिर से अपने पुरानी राजनीति पर उतरने की बात कह रही हैं. मतलब अगर उनकी बात नहीं मानी गई तो तोड़-फोड़ और हंगामा भी हो सकता है जिसके लिए शिवसेना को जाना जाता हैं.