CAA: असम में हुए हिंसक प्रदर्शन के पीछे आतंकवादी संगठन, खुफिया एजेंसियों का दावा

सूत्रों के मुताबिक, दस्तावेजों से यह बात सामने आई है कि आतंकवादी संगठन उल्फा ने प्रदर्शनकारियों को हथियार दिए. 

CAA: असम में हुए हिंसक प्रदर्शन के पीछे आतंकवादी संगठन, खुफिया एजेंसियों का दावा

डिब्रूगढ़: असम में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act- CAA) को लेकर हुए हिंसक प्रदर्शनों के पीछे आतंकवादी संगठनों का हाथ है. देश की खुफिया एजेंसियों ने यह दावा किया है. खुफिया एजेंसियों के हाथ कुछ अहम दस्तावेज लगे हैं जिनके हवाले से यह खुलासा हुए है. सूत्रों के मुताबिक, दस्तावेजों से यह बात सामने आई है कि आतंकवादी संगठन उल्फा ने प्रदर्शनकारियों को हथियार दिए. 

खुफिया एजेंसियों ने दस्तावेजों के आधार पर यह दावा किया है कि प्रदर्शनकारियों को 60% हथियार उल्फा ने मुहैया करवाए थे. केंद्र सरकार को शक है कि इस विरोध के पीछे अनेक ऐसे असामाजिक संगठन भी सक्रिय हैं जिनके ऊपर सरकार की कड़ी निगाहें हैं और जिन संगठनों के अनेक लोग देशद्रोही गतिविधियों में गिरफ्तार होकर कर जेलों में बंद हैं.

ये भी पढ़ें: CAA Protest LIVE: दिल्ली में प्रदर्शन की अनुमति नहीं, लाल किले के आस-पास धारा 144 लागू

इधर, विपक्षी पार्टियां आज नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशव्यापी प्रदर्शन कर रही हैं. हालांकि इस आंदोलन का शिव सेना और आरजेडी जैसी पार्टियां सपोर्ट नहीं कर रही हैं. CAA और NRC का खास विचारधारा वाले बालीवुड कलाकार भी विरोध करेंगे. ज़ावेद अख्तर, शबाना आज़मी, फ़रहान अख़्तर, अनुराग कश्यप और अनुभव सिन्हा जैसे सेलेब्रेटी भी आज विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे. 

ये भी पढ़ें: CAA Protest : दिल्‍ली मेट्रो पर इस वक्‍त की बड़ी खबर, एक के बाद एक बंद किए गए हैं 15 स्‍टेशन

व्यापक प्रदर्शन को देखते हुए देशभर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू कर दी गई है. उत्तर प्रदेश पुलिस अभिभावकों से लगातार अपील कर रही है कि अपने बच्चों को प्रदर्शन में शामिल न होने दें. इधर, दिल्ली पुलिस ने साफ कर दिया है कि दिल्ली में किसी प्रकार के प्रदर्शन को अनुमति नहीं दी गई है. एहतियात के तौर लाल किले के आस-पास धारा 144 लगा दी गई है. 

नागरिकता कानून में हुए संशोधन के खिलाफ दिल्‍ली (Delhi) में अलग-अलग जगहों पर हो रहे विरोध-प्रदर्शनों की आशंका के मद्देनजर पहले 8 स्‍टेशनों को बंद रखने का फैसला लिया गया, जिसके बाद 6 और स्‍टेशनों को बंद कर दिया गया. इनमें  जामिया मिलिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia), जसोला विहार (Jasola Vihar), शाहीन बाग (Shaheen Bagh) और मुनिरका (Munirka) स्‍टेशनों के प्रवेश और निकास द्वार बंद रहेंगे. इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी. इससे अलावा लाल किला, जामा मस्जिद, चांदनी चौक और विश्वविद्यालय मेट्रो स्‍टेशन के प्रवेश और निकास द्वार बंद रखे गए हैं. इन स्टेशनों पर भी ट्रेनें नहीं रुकेंगी.