close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जल्द रिटायर होने वाले हैं CJI, सुप्रीम कोर्ट में तीन दिनों में आने वाले हैं यह 5 अहम फैसले

चीफ़ जस्टिस 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. सेवानिवृत्त होने से पहले चीफ़ जस्टिस को अपनी सुनवाई के सभी मामलों में फ़ैसला सुनाना है. 

जल्द रिटायर होने वाले हैं CJI, सुप्रीम कोर्ट में तीन दिनों में आने वाले हैं यह 5 अहम फैसले
फाइल फोटो

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के अगले 3 दिनों में चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई अयोध्या विवाद सहित पांच अहम मामलों पर फ़ैसला सुनाएगें. चीफ़ जस्टिस 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं. सेवानिवृत्त होने से पहले चीफ़ जस्टिस को अपनी सुनवाई के सभी मामलों में फ़ैसला सुनाना है. इस हफ़्ते में शनिवार और रविवार का दिन है जिनमें सुप्रीम कोर्ट में अवकाश होता है.अगले हफ़्ते सोमवार और मंगलवार को गुरू नानक देव की जयंती के अवसर पर पर सुप्रीम कोर्ट में छुट्टी है. फिर 17 नवंबर को चीफ़ जस्टिस के सेवानिवृत्त होने से पहले 16 और 17 नवंबर को शनिवार व रविवार का अवकाश होने के कारण चीफ़ जस्टिस को सुनवाई के सिर्फ़ तीन दिन 13, 14, 15 नवंबर ही मिलेगें. 

जिन पांच मामलों पर चीफ़ जस्टिस गोगोई को फ़ैसला देना है, वो अहम मामले हैं- 

- सुप्रीम कोर्ट में देश का सबसे बड़ा फ़ैसला अयोध्या राम मंदिर विवाद पर सुनाया जाएगा 

- राफेल मामले में 14 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट के सुनाए गए निर्णय की पुनर्विचार की मांग के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा व अरुण शौरी समेत कई अन्य लोगों की तरफ से दाखिल याचिका पर लेना है निर्णय.

- राफ़ेल मामले पर सुप्रीम कोर्ट के पुराने फ़ैसले को लेकर चुनावी दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ ‘चौकीदार चोर है’ के नारे का इस्तेमाल करने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ दाखिल सुप्रीम कोर्ट की अवमानना याचिका पर देना है निर्णय.

- केरल के सबरीमाला मंदिर में हरेक आयु की महिलाओं को प्रवेश दिए जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले की दोबारा समीक्षा के लिए दाखिल याचिकाओं पर पांच सदस्यीय संविधान पीठ को करना है विचार.

- दिल्ली हाईकोर्ट की तरफ से दिया गया सीजेआई ऑफिस को सूचना अधिकार कानून के दायरे में लाने के आदेश के खिलाफ 2010 में सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल व सेंट्रल पब्लिक इंफार्मेशन ऑफिसर की तरफ से दाखिल तीन याचिकाओं पर चार अप्रैल को सुरक्षित रखे गए निर्णय को सुनाना.