डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा को कपड़े पहनाए, ठंड से बचाने के लिए अलाव भी जलाया, लोगों में रोष

व्यक्ति ने शुक्रवार रात थाने के सामने लगी डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को कपड़े पहनाकर उसके पास अलाव जला दिया. सुबह के समय जब लोगों ने देखा तो दलित समाज के लोगों में रोष फैल गया.

डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा को कपड़े पहनाए, ठंड से बचाने के लिए अलाव भी जलाया, लोगों में रोष
photo : Zee news

अंक‍ित म‍ित्‍तल, मुजफ्फरनगर: यूपी के मुजफ्फरनगर में उस समय विवाद की स्‍थ‍िति बन गई जब एक सिरफिरे ने डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को कपड़े पहनाकर उनके सामने अलाव जला दिया. हालांकि हंगामा ज्‍यादा नहीं बढ़ा और बड़ा विवाद होने से टल गया. एक व्यक्ति ने शुक्रवार रात थाने के सामने लगी डॉ. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा को कपड़े पहनाकर उसके पास अलाव जला दिया. सुबह के समय जब लोगों ने देखा तो दलित समाज के लोगों में रोष फैल गया.

इसके बाद बोधिसत्व डॉ. बी आर आंबेडकर कल्याणकारी समिति के सदस्यों ने थाने में आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा कराने के लिए शिकायती पत्र दे दिया मगर पुलिस ने कुछ ही देर में इस घटना को अंजाम देने वाले व्यक्ति को करने वाले को हिरासत में ले लिया. जब उससे पूछताछ शुरू की तो आरोपी दिमागी रूप से बीमार पाया गया. इसके बाद पुलिस ने शिकायतकर्ताओं को समझा बुझाकर आरोपी को छोड़ दिया.

अखिलेश यादव CBI की रडार पर, अवैध खनन मामले में होगी भूमिका की जांच

मामला थाना खतौली कोतवाली क्षेत्र का है. यहां थाने के ठीक सामने लगी डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा पर शुक्रवार की रात एक व्यक्ति द्वारा कपड़े पहना दिए गए. यही नहीं आरोपी ने लकड़ियां इकट्ठी करके उसके सामने अलाव भी जला दिया. सुबह के समय जब लोगों ने प्रतिमा को देखा तो माहोल गर्म हो गया. बोधिसत्व डॉ भीमराव आंबेडकर कल्याण समिति के सदस्यों ने इस मामले की शिकायत थाने में दी.

थाना प्रभारी खतौली सर्वेश सिंह ने मौके पर जाकर देखा पुलिस ने तत्काल कार्यवाही करते हुए इस घटना को अंजाम देने वाले एक व्यक्ति को मौके से गिरफ्तार कर लिया, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की तो पकड़ा गया आरोपी अर्ध विक्षिप्त मानसिक रूप से बीमार पाया गया जिसमें उसने पुलिस पूछताछ में खुद को ठंड लगने की बात कही इसके साथ ही उसने कहा कि बाबा को भी ठंड लग रही थी, इसलिए उसने उन्हें कपड़े पहना दिए. पुलिस ने आरोपी से पूछताछ के बाद शिकायतकर्ताओं को समझा बुझाकर आरोपी व्यक्ति को छोड़ दिया. पुलिस का मानना है कि ये अर्ध विक्षिप्त व्यक्ति जेल भेजने की हालत में नहीं है.