अयोध्या: जानिए कितना आगे बढ़ा है राम मंदिर का निमार्ण कार्य और कब होगा भूमि पूजन?

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट राम मंदिर निर्माण से पहले तराशे गए पत्थरों में लगी काई को छुड़ाने के लिए देश की बड़ी-बड़ी कंपनियों को अयोध्या बुला रहा है. दिल्ली की केएलए कंस्ट्रक्शन कंपनी भी अयोध्या के कारसेवक पुरम स्थित वीएचपी कार्यशाला पहुंची है.

अयोध्या: जानिए कितना आगे बढ़ा है राम मंदिर का निमार्ण कार्य और कब होगा भूमि पूजन?
सांकेतिक तस्वीर.

अयोध्या: अयोध्या राम जन्मभूमि परिसर में राम मंदिर निर्माण को लेकर तैयारियां अब तेज हो रही हैं. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट राम मंदिर निर्माण से पहले तराशे गए पत्थरों में लगी काई को छुड़ाने के लिए देश की बड़ी-बड़ी कंपनियों को अयोध्या बुला रहा है. दिल्ली की केएलए कंस्ट्रक्शन कंपनी भी अयोध्या के कारसेवक पुरम स्थित वीएचपी कार्यशाला पहुंची है.

कंपनी के डायरेक्टर के साथ 2 इंजीनियर रविवार को अयोध्या पहुंचे. उन्होंने वीएचपी कार्यशाला में तराश कर रखे गए पत्थरों पर लगे काई को हटाने का ट्रायल बेस कार्य शुरू किया. कंपनी के डायरेक्टर संदीप गर्ग का कहना है कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने तराशे गए पत्थरों से काई हटाने के लिए कंपनी से संपर्क किया था. इस बीच खबर है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भूमि पूजन की तैयारी का जायजा लेने अयोध्या जाएंगे.

प्रयागराज: GRP के दो जवानों में कोरोना की पुष्टि से हड़कंप, क्वॉरंटीन किए गए 24 पुलिसकर्मी

हालांकि कंपनी को अभी इस कार्य का टेंडर नहीं मिला है. राम मंदिर ट्रस्ट अन्य कंपनियों से भी संपर्क कर रहा है, जिनका काम अच्छा होगा उनको टेंडर दिया जाएगा. केएलए कंस्ट्रक्शन कंपनी के डायरेक्टर संदीप गर्ग का कहना है की पानी और केमिकल के माध्यम से राम मंदिर निर्माण के लिए तराशे गए पत्थरों की काई को हटाया जा सकता है. इस पूरे काम में लगभग 3 महीने से ज्यादा का समय लगेगा.

इतना समय लगने के पीछे केएलए कंस्ट्रक्शन कंपनी के डायरेक्टर ने बताया, ''क्योंकि बड़े-बड़े तराशे गए पत्थर रखे हुए हैं, जिनको साफ करना एक बड़ा चैलेंज होगा. यदि मेरी कंपनी को य​ह काम मिलता है तो राम जी की बड़ी कृपा होगी.'' वहीं, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पहले ही कह चुका है कि राम मंदिर निर्माण के पहले चरण का कार्य शुरू हो चुका है.

योगी सरकार का दावा- लॉकडाउन के दौरान UP में 57 लाख से अधिक श्रमिकों को मिला रोजगार

इसमें राम मंदिर के गर्भगृह वाली 3 एकड़ भूमि का समतलीकरण कर दिया गया है. इसके अलावा मंदिर निर्माण हेतु एल एंड टी कंपनी को बुलाया गया है. इनके बड़े-बड़े उपकरण और इंजीनियर राम मंदिर निर्माण में सहायक होंगे. वहीं दूसरी ओर राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया को शुरू करने से पहले भूमि पूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समय दिए जाने का इंतजार राम मंदिर ट्रस्ट कर रहा है.

WATCH LIVE TV