अमर सिंह के निधन से रामपुर में जयाप्रदा समर्थकों में शोक की लहर, जानिए वजह

माना जाता है कि राजनीति में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान और अमर सिंह के बीच 36 के आंकड़े की वजह जयाप्रदा ही थी. 

अमर सिंह के निधन से रामपुर में जयाप्रदा समर्थकों में शोक की लहर, जानिए वजह
फाइल फोटो

रामपुर: राज्यसभा सांसद अमर सिंह के निधन की खबर सुनकर रामपुर में जयप्रदा समर्थकों में मातम का माहौल है. रामपुर से ठाकुर अमर सिंह का विशेष नाता रहा है क्योंकि फिल्म अभिनेत्री रही जयाप्रदा को यहां से लोकसभा चुनाव में उतारने का श्रेय उन्हीं को जाता है. यही नहीं जब रामपुर में जयप्रदा चुनाव जीती थीं तो ठाकुर अमर सिंह ने अपनी सांसद निधि से जिला अस्पताल में रैन बसेरा, वार्निंग सेल, सीसी रोड व अन्य विकास कार्य करवाए थे.

ये भी पढ़ें: जानिए अमर सिंह के निधन पर क्या बोले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल यादव

माना जाता है कि राजनीति में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान और अमर सिंह के बीच 36 के आंकड़े की वजह जयाप्रदा ही थी. रामपुर से जयाप्रदा का राज्यसभा सांसद ठाकुर अमर सिंह की वजह से खास लगाव था, यही कारण था कि जब जयाप्रदा 2004 में रामपुर से सपा की प्रत्याशी बनी तो ठाकुर अमर सिंह ने उन्हें चुनाव जीतवाने में पूरा जोर लगा दिया था.

2004 से अपने राजनीतिक करियर को शुरू करने वाली जयाप्रदा का साथ अमर सिंह ने हर वक्त दिया. जयाप्रदा ने भी राजनीति में आने के बाद कभी अमर सिंह का साथ नहीं छोड़ा. जब रामपुर में जयाप्रदा ने नीलाबेड़ी कृष्णा नर्सिंग स्कूल का शिलान्यास किया तो उस समय भी राज्यसभा सांसद ठाकुर अमर सिंह रामपुर आए. इस दौरान फिल्म अभिनेत्री जया बच्चन और मनोज तिवारी भी उनके साथ मौजूद रहे.

ये भी पढ़ें: सपाई रहे अमर सिंह का व्यक्तित्व था बेहद खास, हर दल में थे मित्र, जानिए BJP-कांग्रेस का रिएक्शन

2009 में भी रामपुर सीट से जयाप्रदा को जीताने में अमर सिंह ने बेहद अहम भूमिका निभाई, लेकिन तब तक आजम खान से रिश्ते बहुत ज्यादा खराब हो गए थे. बाद में अमर सिंह ने जब समाजवादी पार्टी को अलविदा कहा तो जयाप्रदा ने भी उनका साथ देते हुए राष्ट्रीय लोक मंच पार्टी का गठन किया. जिसके बाद 2014 में जयाप्रदा ने बिजनौर लोकसभा सीट से लोकदल प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा और अमर सिंह ने आगरा ग्रामीण क्षेत्र की सीट से. दिलचस्प बात ये है कि जब जयाप्रदा बीजेपी में शामिल हुई तो अमर सिंह ने ही उन्हें सदस्यता दिलाई और 2019 में रामपुर सीट से मैदान में उतरवाया.

वहीं, विगत वर्ष जब समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान ने अमर सिंह की बेटियों के बारे में अपशब्द बोले थे, तब लखनऊ के गोमती नगर में आजम खान के विरुद्ध मुकदमा भी दर्ज हुआ था. जिसकी विवेचना आज भी रामपुर जनपद की थाना अजीमनगर पुलिस कर रही है. इस मामले की पैरवी पूर्व सांसद जयाप्रदा के प्रतिनिधि अधिवक्ता मुस्तफा हुसैन ही कर रहे हैं.

WATCH LIVE TV: