close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मायावती बोलीं, 'एक तरफा चुनाव परिणाम बिना गड़बड़ी के संभव नहीं, मतपत्र से हो चुनाव'

बैठक के बाद पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया है, 'भाजपा की जीत में अगर धांधली नहीं है और उसे भारी जनमत प्राप्त है तो फिर भाजपा जनता के बीच जाने से क्यों डरती है तथा बैलेट पेपर से चुनाव कराने की व्यवस्था से क्यों कतरा रही है.’

मायावती बोलीं, 'एक तरफा चुनाव परिणाम बिना गड़बड़ी के संभव नहीं, मतपत्र से हो चुनाव'
पार्टी की इस बैठक में वरिष्ठ नेताओं के अतिरिक्त जिला संयोजक भी शामिल हुए.

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने रविवार को आरोप लगाया कि हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में आए एकतरफा चुनाव परिणाम अप्रत्याशित और जन-अपेक्षा के विपरीत हैं और यह बिना सुनियोजित गड़बड़ी तथा धांधली के संभव नहीं है. प्रदेश की मुख्यमंत्री रह चुकी मायावती ने मांग की कि इस हालात को देखते हुए ईवीएम के बदले दुनिया के अन्य देशों की तरह ही मतपत्रों से चुनाव कराया जाना चाहिए.

बसपा के उत्तर प्रदेश राज्य कार्यालय में आयोजित पार्टी की अखिल भारतीय बैठक में ‘ईवीएम के मार्फत लोकतंत्र व जनमत को हाईजैक करने की राष्ट्रीय चिन्ता’ पर विचार-विमर्श किया गया तथा यह पाया गया कि ’एक देश, एक चुनाव’ नामक भाजपा का ‘नया पाखण्ड’ वास्तव में इनकी चुनावी धांधलियों पर पर्दा डालने तथा बार-बार चुनाव में गड़बड़ी करके जीतने से बचने का प्रयास है . 

बसपा सूत्रों के मुताबिक, पार्टी की इस बैठक में वरिष्ठ नेताओं के अतिरिक्त जिला संयोजक भी शामिल हुए. उन्होंने बताया कि बैठक में सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं के मोबाइल फोन तथा डिजीटल घड़ियां बाहर रखवा ली गयी थी. बैठक के बाद पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया है, 'भाजपा की जीत में अगर धांधली नहीं है और उसे भारी जनमत प्राप्त है तो फिर भाजपा जनता के बीच जाने से क्यों डरती है तथा बैलेट पेपर से चुनाव कराने की व्यवस्था से क्यों कतरा रही है.’’ 

विभिन्न राज्यों और खासकर उत्तर प्रदेश के सम्बन्ध में इस प्रकार की शिकायतें सुनने के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने कहा, 'भाजपा के पक्ष में जो एकतरफा चुनाव परिणाम आये हैं वे अप्रत्याशित और जनअपेक्षा के विपरीत हैं, जो बिना किसी सुनियोजित गड़बड़ी व धांधली के संभव ही नहीं है. इसीलिए ईवीएम को हटाकार दुनिया के अन्य देशों की तरह ही बैलेट पेपर से चुनाव अपने देश में भी कराया जाना चाहिए.'  मायावती ने कहा, 'देश के लगभग सभी प्रमुख विपक्षी दलों ने ईवीएम की बजाए बैलेट पेपर से चुनाव कराने पर एकमत हैं, लेकिन भाजपा और चुनाव आयोग इसके खिलाफ हैं जिससे देश में बेचैनी है.'