क्या नागरिकता कानून के विरोध में हिंसा करना सही था? पीएम नरेंद्र मोदी

इससे पहले पीएम मोदी के स्वागत में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ, लखनऊ सांसद और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य समेत वरिष्ठ बीजेपी नेता मौजूद रहे. 

क्या नागरिकता कानून के विरोध में हिंसा करना सही था? पीएम नरेंद्र मोदी

लखनऊ: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Former PM Atal Bihari Vajpayee) की जयंती के अवसर पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लखनऊ में अटल जी की 25 फुट लंबी प्रतिमा का अनावरण किया. इस मौके पर सीएम योगी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत यूपी की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल भी मौजूद रही. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज यूपी के सीएम ने मेरा स्वागत किया ये काशी का सांसद उनका धन्यवाद देता है. पीएम मोदी ने कहा 'मेरा सौभाग्य है कि आज मैं अटल जी के जन्मदिन के अवसर पर उनसे जुड़े दूसरे कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचा हूं.' पीएम मोदी ने इससे पहले आज सुबह अटल भूजल योजना और अटल टनल की शुरुआत की थी.

पीएम मोदी ने कहा, 'अटल जी जब लखनऊ के सांसद थे तो उन्होंने यहां विकास के कई कार्य किए. आज उनकी विरासत को राजनाथ सिंह जी संभाल रहे हैं. आज यहां अटल मेडिकल कॉलेज का भी शिलान्यास हो रहा है. इस यूनिवर्सिटी के बनने से यूपी में मेडिकल की पढ़ाई में और भी सुधार आने वाला है. यूपी सहित पूरे देश के हेल्थ सेक्टर के विकास के लिए हमारा विजन और डायरेक्शन दोनों हमेशा से ही प्रथम रहा है.'

पीएम ने कहा कि हमारी सरकार ने हमेशा से प्रिवेंटिव हेल्थ केयर के कार्यक्रम चलाए हैं. स्वच्छ भारत औऱ योग प्रिवेंटिव हेल्थ केयर का हिस्सा है, उज्ज्वला योजना और फिट इंडिया मूवमेंट, आयुर्वेद को बढ़ावा देना सब प्रिवेंटिव हेल्थ केयर का हिस्सा है. पशु का आरोग्य भी मानव आरोग्य के लिए प्रिवेंटिव हेल्थ के काम आता है. हेल्थ केयर के दूसरे आयाम यानि अफोर्डिबेलिटी को बढ़ावा देने के लिए भी हमने कई काम किए. आयुष्मान भारत योजना दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ केयर स्कीम है. 

योगी सरकार ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में अतुलनीय काम किए
यूपी की योगी सरकार ने इंसेफ्लाइटिस को कम करने में बेहतरीन काम किया है. आयुष्मान भारत योजना से लोगों को नया विश्वास मिला है. यूपी की सरकार ने इस योजना को आगे बढ़ाने में सक्रियता दिखाई है. अकेले यूपी के 11 लाख लोगों लाभ लिया है. इसके अलावा जन औषधि योजना में सस्ती दवाईयां मिल रही हैं. आज सुशासन दिवस पर हमें अटल जी की एक बात हमेशा याद रखनी चाहिए.

अटल जी कहते थे कि हर पीढ़ी के योगदान का मूलांकन दो कामों से किया जाता है. एक विरासत में मिली समस्याओं को सुलझाना. दूसरा राष्ट्र के भावी विकास के लिए हमने अपने खुद के प्रयासों से कितनी मजबूत नींव रखी है. हमने 370 हटाया, राम मंदिर मामले का शांतिपूर्ण समाधान निकला, विभाजन के बाद पीड़ित शरणार्थियों को नागरिकता देने काम जैसे कभी ना सुलझने वाले मामलों को इस देश के नागरिकों ने समाधान निकाला है. अभी भी जो काम बाकि रह गए हैं उनके समाधान के लिए भी हर भारतवासी प्रयास कर रहा है. 

हम चुनौतियों को चुनौती देने के स्वभाव से निकले हैं. हमने चुनौतियों को चुनौती देने का एक भी मौका छोड़ा नहीं. आज हर घर तक गैस पहुंच रही है, अंधेरे में रह रहे लोगों के घरों तक बिजली पहुंच रही है. हर गरीब बैंकों तक पहुंच रहा है. 2014 से पहले तक लोगों के घरों में शौचालय नहीं था. आज हम ऐसे सुशासन की तरफ पहुंच रहे हैं जहां सरकार लोगों तक पहुंचकर पूछ रही है कि कोई तकलीफ तो नहीं है. हमने सभी सरकारी सेवाओं को ऑनलाइन कर दिया है. आजादी के बाद से हमने सबसे ज्यादा जोर अधिकारों पर दिया है. देश नए दशक में कदम रख रहा है. 

विरोध के नाम पर हिंसा सही नहीं
यूपी में जिस तरह लोगों ने विरोध प्रदर्शन के नाम पर हिंसा की, वो अपने से पूछे कि क्या ये रास्ता सही था. क्या जो कुछ जलाया गया बर्बाद किया गया वो उनके बच्चों के काम आने वाला नहीं था. इस हिंसा में जो सामान्य नागरिक मारे गए जो पुलिस वाले जख्मी हुए उनके परिवार के बारे में हम पल सोचें कि उनपर क्या बीती होगी. नागरिकों को चाहिए कि हक और दायित्वों को समझें. शिक्षा हमारा हक है लेकिन संस्थानों की रक्षा करना हमारा दायित्व है. हक का एक दायरा है लेकिन दायित्व और कर्तव्य की भावना बहुत व्यापक होती है.

इससे पहले कार्यक्रम में पीएम मोदी के स्वागत में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ, लखनऊ सांसद और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य समेत वरिष्ठ बीजेपी नेता मौजूद रहे. 

लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया. और कहा कि आज अटल जी हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी स्मृतियां हमारे अंदर अटल और अविचल हैं. अटल जी ने अपनी प्रतिभा और व्यक्तित्व क्षमता से केवल भारतीयों को ही नहीं बल्कि दुनिया को प्रभावित किया.

इससे पूर्व पीएम मोदी ने लोकभवन ऑडिटोरियम में अटल बिहारी वाजयेपी मेडिकल यूनिवर्सिटी का शिलान्यास किया. हाल ही में CAA को लेकर हुए हिंसक प्रदर्शनों के चलते पीएम की सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम किए गए हैं. पीएम नरेंद्र मोदी के लखनऊ आगमन पर सुरक्षा में 18 एसपी तैनात हैं. 19 एएसपी, 32 सीओ, 42 एसएचओ और 300 उप निरीक्षकों की भी ड्यूटी लगाई गई है. साथ ही 6 म०उ०नि०, 270 हेड कॉन्स्टेबल, 1450 आरक्षी, 200 म०आरक्षी और पीएसी की 8 और RAF की 2 कम्पनियां तैनात है.

ये वीडियो भी देखें: