प्रियंका के वाराणसी दौरे से पहले आया नया विवाद, वकीलों ने मंदिर दर्शन पर जताई आपत्ति

20 मार्च को प्रियंका गांधी वाड्रा का वाराणसी के विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन का कार्यक्रम है.

प्रियंका के वाराणसी दौरे से पहले आया नया विवाद, वकीलों ने मंदिर दर्शन पर जताई आपत्ति

वाराणसी: अपने चार दिनी यूपी दौरे के दौरान 20 मार्च को प्रियंका गांधी वाड्रा का वाराणसी के विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन का कार्यक्रम है. उससे पहले यह मामला विवादों में आ गया है. दरअसल वाराणसी के वकीलों ने प्रियंका गांधी वाड्रा के विश्वनाथ मंदिर दर्शन पर आपत्ति जताई है. इन वकीलों ने मुख्‍यमंत्री और जिलाधिकारी को पत्र देकर प्रियंका वाड्रा को विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन न करने देने की अपील की है. पत्र के माध्यम से बताया गया है कि कि विश्वनाथ मंदिर हिन्दू सनातन धर्म के देवताओं का मंदिर है और ईसाई धर्म होने के नाते प्रियंका वाड्रा को यहां जाने नहीं देना चाहिए. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित कर लिखे गए पत्र में कहा गया कि उनकी पूजा की जगह चर्च है.

संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने प्रियंका गांधी पर दिया विवादित बयान, मचा बवाल

अगला लोकसभा चुनाव जनता के लिये चुनौती : प्रियंका
इससे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को उत्तर प्रदेश में अपने चुनाव अभियान की शुरुआत करते हुए कहा कि जनता के लिये अगला लोकसभा चुनाव एक चुनौती है और उसे यह तय करना होगा कि वह नफरत और फरेब की राजनीति चाहती है या विकास की. प्रयागराज से वाराणसी के बीच गंगा नदी में 100 किलोमीटर के सफर पर निकली प्रियंका ने अपने पहले पड़ाव के तहत भदोही के सीतामढ़ी स्थित जानकी मंदिर परिसर में आयोजित जनसभा में केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर जमकर प्रहार किये और कहा 'आप (जनता) के लिये यह चुनाव नहीं बल्कि चुनौती है. उसे वोट दीजिये, जिसके लिये आपका दिल धड़कता है.'

कांग्रेस की छाया से क्यों दूर रहना चाहती हैं BSP सुप्रीमो मायावती?

उन्होंने कहा 'आपकी तरह हम भी थक गये हैं, ऐसी सरकार से जो हमारे संविधान और संस्थाओं को बिगाड़ना चाहती है, जो हमारी जनता की आवाज नहीं सुनती. हम सब आपके साथ खड़े हैं. हम इस देश में बदलाव इसलिये करना चाहते हैं, क्योंकि हम देश में ऐसी राजनीति लाना चाहते हैं, जो सिर्फ और सिर्फ आपका विकास करे. मैं पूरी उम्मीद रखती हूं कि आप सभी समझकर अपना वोट देंगे और कांग्रेस को वोट देकर देश को आगे बढ़ाएंगे.'

कांग्रेस महासचिव ने कहा 'राजनीतिक शक्ति उसे कहते हैं, जो सबकी बात सुने. आप अपने क्षेत्र को देखें, बुनकरों की क्या हालत हुई है. जीएसटी की वजह से आपका 60 प्रतिशत कारोबार बंद हो चुका है. क्या आज किसी किसान को अपनी उपज का दाम मिल रहा है? बीज खरीदने के लिये कर्ज लेना पड़ता है. आपको मालूम है कि राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद किसानों की कर्जमाफी का वादा पूरा किया. इसे राजनीतिक शक्ति कहते हैं. इसे पहचानिये.'