close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा के बाद योगी सरकार की फिर होगी परीक्षा, इन 11 सीटों पर लगा है दांव

लोकसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं लेकिन उत्तर प्रदेश में चुनावी मौसम अभी खत्म नहीं होगा क्योंकि राज्य के 11 विधायक लोकसभा चुनाव जीते हैं, 

लोकसभा के बाद योगी सरकार की फिर होगी परीक्षा, इन 11 सीटों पर लगा है दांव
.(फाइल फोटो)

लखनऊ: लोकसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं लेकिन उत्तर प्रदेश में चुनावी मौसम अभी खत्म नहीं होगा क्योंकि राज्य के 11 विधायक लोकसभा चुनाव जीते हैं, जिसकी वजह से रिक्त विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होगा. कुल 13 विधायक लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी थे, जिनमें से 11 चुनाव जीत गये. इन विधायकों में नौ भारतीय जनता पार्टी के, दो समाजवादी पार्टी के और एक- एक बहुजन समाज पार्टी एवं अपना दल के हैं. भाजपा के नौ विधायकों में से चार मंत्री हैं. जन प्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 151 के प्रावधान के मुताबिक विधानसभा या लोकसभा की रिक्त सीट पर छह महीने में उपचुनाव हो जाना चाहिए. चार मंत्रियों में से तीन ने चुनाव जीता .

आंबेडकर नगर से मुकुट बिहारी वर्मा चुनाव हार गये. चुनाव जीतने वाले प्रदेश के मंत्री इलाहाबाद से रीता बहुगुणा जोशी, कानपुर से सत्यदेव पचौरी और आगरा से एस पी सिंह बघेल हैं. भाजपा विधायकों में आर के सिंह पटेल बांदा लोकसभा सीट से चुनाव जीते. वह मानिकपुर विधानसभा सीट से विधायक हैं.

इगलास से भाजपा विधायक राजवीर दिलेर हाथरस लोकसभा सीट से विजयी हुए जबकि जैदपुर से भाजपा विधायक उपेन्द्र रावत बाराबंकी लोकसभा सीट जीते. गंगोह से भाजपा विधायक प्रदीप चौधरी कैराना लोकसभा सीट जीते जबकि बलहा से विधायक अक्षयवर लाल गौड बहराइच लोकसभा सीट जीते.

सपा ने रामपुर के विधायक मोहम्मद आजम खां को रामपुर लोकसभा सीट से चुनाव लडाया. खां चुनाव जीत गये हैं. बसपा विधायक रीतेश पाण्डेय आंबेडकर नगर लोकसभा सीट से और अपना दल के विधायक संगम लाल गुप्ता, जो भाजपा के टिकट पर लडे, प्रतापगढ से विजयी हुए.

चुनाव हारने वाले विधायकों में जसवंत नगर से विधायक शिवपाल सिंह यादव शामिल हैं, जो अपनी नवगठित पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के टिकट पर फिरोजाबाद लोकसभा सीट से लडे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तीन कैबिनेट सहयोगी चूंकि अब लोकसभा जाएंगे इसलिए योगी कैबिनेट में फेरबदल भी संभावित है.