आतंकी हमले के बाद सैनिक की पत्नी ने कहा- मत जाओ कश्मीर, पति नहीं माना तो लगा ली फांसी

पुलवामा हमले को देखते हुए सैनिक की पत्नी ज्यादा परेशान हो गई थीं.

आतंकी हमले के बाद सैनिक की पत्नी ने कहा- मत जाओ कश्मीर, पति नहीं माना तो लगा ली फांसी
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

अहमदाबाद: गुजरात के देवभूमि द्वारका जिले में सेना के एक जवान की पत्नी ने आत्महत्या कर ली क्योंकि वह अपने पति की सुरक्षा को लेकर चिंतित थीं. पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि 22 वर्षीय मीनाक्षी जेठवा अपने पति भूपेंद्र सिंह की सुरक्षा को लेकर पुलवामा हमले के बाद चिंतित थीं.

शनिवार को वह खाम्भलिया शहर के अपने घर में फांसी से लटकी हुई मिलीं. महिला के पति जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग में तैनात हैं लेकिन घटना के समय वह घर आए हुए थे. एक स्थानीय पुलिस अधिकारी ने बताया कि दो साल पहले ही इन दोनों की शादी हुई थी. मीनाक्षी अपने पति को वापस कश्मीर जाने देना नहीं चाहती थीं.

पुलिस ने बताया कि जेठवा ने अपनी पत्नी को बताया था कि वह ड्यूटी के दौरान हिमस्खलन से कैसे बाल-बाल बचे थे. इसकी जानकारी मिलने और पुलवामा हमले को देखते हुए सैनिक की पत्नी ज्यादा परेशान हो गई थीं. पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘ सैनिक के जाने की तारीख नजदीक आने के साथ ही उसने फांसी लगा ली.' 

बता दें कि बीती 14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने पुलवामा के अवंतिपोरा इलाके में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमला किया था. इस हमले में अर्धसैनिक बल के 40 जवान शहीद हो गए थे जबकि कई जवान घायल हुए थे. इस हमले के बाद पूरे देश में रोष फैल गया और हर तरफ से आतंक और पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का मांग उठने लगी. पीएम नरेंद्र मोदी ने भी कहा था कि किसी भी तरह इस हमले के दोषियों के बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा था कि सुरक्षाबलों को को कार्रवाई की पूरे छूट दे दी गई है.