close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: दुनिया के सामने भारत ने खोली पाकिस्तान की पोल

भारत ने सबूतों के आधार पर ये साबित कर दिया है, कि कल भारत के सैन्य ठिकानों पर पाकिस्तान की वायुसेना ने जो हमले किए थे, वो F-16 फाइटर जेट्स से ही किए गए थे.

ZEE जानकारी: दुनिया के सामने भारत ने खोली पाकिस्तान की पोल

आज भारत ने पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान के F-16 वाले झूठ की पोल खोल दी है. भारत ने सबूतों के आधार पर ये साबित कर दिया है, कि कल भारत के सैन्य ठिकानों पर पाकिस्तान की वायुसेना ने जो हमले किए थे, वो F-16 फाइटर जेट्स से ही किए गए थे. अब से थोड़ी देर पहले भारतीय थल सेना, वायुसेना और नौसेना की Joint Press Conference हुई थी. इस Joint Briefing में भारतीय थल सेना के मेजर जनरल सुरिंदर सिंह महल, भारतीय वायुसेना के एयर वाइस मार्शल RGK कपूर और भारतीय नौसेना के रियर एडमिरल DS गुजराल मौजूद थे. 

इन तीनों ने एक साथ मिलकर पाकिस्तान के खिलाफ सबूतों वाली हैट्रिक पूरी कर ली है. और आज पूरी दुनिया के सामने सबूतों के आधार पर ये साबित कर दिया है, कि कल भारत के सैन्य ठिकानों पर पाकिस्तान की वायुसेना ने जो हमले किए, वो F-16 फाइटर जेट्स से ही किए गए. सबसे पहले आप ये तस्वीरें देखिए. फिर हम इस ख़बर की गहराई में जाएंगे. और आपको वो बातें बताएंगे, जिनकी जानकारी किसी के पास नहीं है.

भारतीय सैन्य ठिकानों पर बुधवार को हमले की नाकाम कोशिश के बाद से पाकिस्तान लगातार झूठ पर झूठ बोलता आ रहा है. और आज उसका एक और झूठ बेनकाब हुआ है. वो कल से कहता आ रहा है, कि भारतीय वायुसेना की जवाबी कार्रवाई में उसका कोई विमान Crash नहीं हुआ. कल उसने ये भी दावा किया था, कि हमले के लिए पाकिस्तान की वायुसेना ने F-16, लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल नहीं किया था. पाकिस्तान के इस झूठ का एक सच हमने कल ही आपको बता दिया था. 
अमेरिका ने पाकिस्तान को ये विमान, इस शर्त पर दिया है, कि वो इसका इस्तेमाल सिर्फ Counter Terrorism Operations के लिए करेगा. किसी देश पर हमले के लिए नहीं. और अगर पाकिस्तान ने ये स्वीकार कर लिया, कि भारत पर हवाई हमले के लिए उसने F-16 का इस्तेमाल किया है, तो वो Expose हो जाएगा. हम जानते हैं, कि पाकिस्तान खुद ये काम नहीं करेगा. इसलिए आज हमें ही ये ज़िम्मेदारी उठानी पड़ेगी.

और इसके लिए हम आपको दो अलग-अलग तस्वीरें दिखाना चाहते हैं. जो इस वक्त मेरे हाथ में है. ये पाकिस्तानी वायुसेना के उस लड़ाकू विमान के मलबे की तस्वीर है, जो भारत की सीमा के भीतर आकर गिरे. पाकिस्तान शुरुआत से ये कह रहा है, कि हमले में उसने F-16 विमान का इस्तेमाल नहीं किया. लेकिन ये दोनों तस्वीरें उसके झूठ को Expose कर देंगी. 

पाकिस्तानी विमान के मलबे की पहली तस्वीर में सबसे ऊपर लिखा है, AIM-120...और ये एक Guided Missile का मलबा है.
जबकि दूसरी तस्वीर में ये बात स्पष्ट लिखी गई है, कि ये F-16 के मिसाइल का मलबा है. पाकिस्तानी विमान का यही मलबा, उसके झूठ की सच्ची कहानी बता रहा है. 

AIM-120 एक Advanced Medium-Range Air-to-Air Missile है.

इस मिसाइल को अमेरिका की Defense contractor company, Raytheon बनाती है.

अमेरिका ने अभी तक 36 देशों को इस मिसाइल सिस्टम की डिलिवरी दी है. 

इस मिसाइल सिस्टम को, F-15, F-16, F-18, F/A-22, Typhoon, Gripen, Tornado, Harrier, F-4, और F-35 फाइटर जेट्स में फिट किया जा सकता है. 

पाकिस्तान की वायुसेना ने वर्ष 2006 में इसी मिसाइल सिस्टम का ऑर्डर Place किया था. पाकिस्तान..... अमेरिका से F-16 Ammunition Contract के तहत.. 500 AIM-120 Advanced Medium-Range Air-to-Air Missile खरीदना चाहता था. इसे AMRAAM भी कहा जाता है.

आज भारतीय सेना, वायुसेना और नौसेना की Joint Press Conference में भी स्पष्ट कर दिया गया, कि पाकिस्तान ने F-16 फाइटर Jets से भारत पर हमला किया था. जिसे भारत के पुराने MiG 21 लड़ाकू विमान ने मार गिराया. इसके अलावा इस Joint Briefing में हमले से जुड़े कुछ सबूत भी रखे गए. और इन्हीं में से एक सबूत था...AMRAAM....इसके अलावा पाकिस्तान के लिए सबसे बुरी ख़बर ये है कि भारत के पास बालाकोट में आतंकवादी कैंप पर किए गये हमले के सबूत है और भारत सरकार इन्हें ज़रूरत पड़ने पर दुनिया के सामने रख सकती है. 

इस Joint Briefing में जो सबूत पेश किए गए....उसके अलावा भी हमारे पास कुछ सबूत हैं. जिनसे पाकिस्तान चाहकर भी इनकार नहीं कर सकता.

अब आपको ये बताते हैं, कि पाकिस्तान का झूठ पकड़े जाने के बाद क्या स्थिति पैदा हो सकती है ? पाकिस्तान ने अमेरिका से 1983 में F-16 लड़ाकू विमान खरीदने शुरू किए थे.

अमेरिका ने पाकिस्तान को जिन शर्तों के साथ F-16 फाइटर जेट्स बेचे थे, उनमें से एक शर्त ये थी, कि वो बिना अमेरिका की इजाज़त के F-16 का इस्तेमाल, किसी दूसरे देश पर हमले के लिए नहीं करेगा. आज भारत ने कल हुए हमले में F-16 के इस्तेमाल का सबूत दुनिया के सामने रख दिया है. इसका मतलब ये हुआ, कि पाकिस्तान ने अमेरिका के साथ की गई डील का उल्लंघन किया है. ये डील अमेरिका और पाकिस्तान के बीच ‘Foreign Military Sales’ program के तहत हुई थी. इस डील के तहत हथियार खरीदने वाले देश को कम दाम में अमेरिका से हथियार मिल जाते हैं. अब पाकिस्तान ने इस डील के नियमों को तोड़ा है. इसलिए अमेरिका अगर चाहे, तो पाकिस्तान के साथ भविष्य की सभी ‘Foreign Military Sales’ की डील को रद्द कर सकता है. और साथ ही इस डील के तहत पहले बेचे गए हथियारों के इस्तेमाल पर कड़े प्रतिबंध भी लगा सकता है.

आज ना सिर्फ भारतीय सेना के तीनों अंगों ने एक साथ मिलकर पाकिस्तान की झूठ वाली फैक्ट्री पर सर्जिकल स्ट्राइक की है. बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इशारों-इशारों में पाकिस्तान को संदेश दे दिया है, कि अभी तो सिर्फ Practice की है. असली मैच तो अभी होना है.

कल पाकिस्तान की सेना के प्रवक्ता ने बेशर्मी से ये बयान दिया था, कि पाकिस्तान ने हमले के लिए F-16 का इस्तेमाल नहीं किया. फिर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने पाकिस्तान के नाम एक Edited संदेश जारी किया. और ये कहा कि पाकिस्तान के कब्ज़े में भारतीय वायुसेना के दो Pilots हैं.

बाद में पाकिस्तान की सेना के प्रवक्ता अपने ही बयान से पलट गए और कहा कि उनके कब्ज़े में सिर्फ एक भारतीय Pilot है. दरअसल, पाकिस्तान अपने ही झूठ में फंस गया. क्योंकि, वो जिस दूसरे Pilot की बात कर रहा था, वो भारतीय वायुसेना का नहीं, बल्कि पाकिस्तान की वायुसेना का था. हालांकि, पाकिस्तान ने Social Media से लेकर टीवी चैनल्स की मदद से ये साबित करने की कोशिश की, कि उसने F-16 विमान का इस्तेमाल नहीं किया. और ना ही भारत की जवाबी कार्रवाई में कोई पाकिस्तानी Pilot ज़ख्मी हुआ. लेकिन आज सच्चाई सामने आ चुकी है. वैसे पाकिस्तान ने जिस Social Media का इस्तेमाल किया. उसी Social Media के माध्यम से हमारे पास ऐसी ख़बरें भी आई हैं, कि जो पाकिस्तानी Pilot, पाकिस्तान की सीमा में जाकर गिरा.. उसे वहीं के स्थानीय लोगों ने पीटा और बाद में उसे Hospital में भर्ती करना पड़ा.