close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee Jaankari: Howdy Modi के खिलाफ पाकिस्तान की जेहादी साजिश का विश्लेषण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के लिए Zee News ने भी इंटरनेशनल तैयारी की है. इस यात्रा का संपूर्ण विश्लेषण आपको दिखाने के लिए New York में एक Special Studio तैयार किया गया है. 

Zee Jaankari: Howdy Modi के खिलाफ पाकिस्तान की जेहादी साजिश का विश्लेषण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के लिए Zee News ने भी इंटरनेशनल तैयारी की है. इस यात्रा का संपूर्ण विश्लेषण आपको दिखाने के लिए New York में एक Special Studio तैयार किया गया है. सोमवार को DNA में हमारी आपसे मुलाकात इसी Studio के माध्यम से होगी. तब हम आपके लिए न्यूयॉर्क से DNA का Special Edition लेकर आएंगे.

22 सितंबर को अमेरिका के Houston में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति Donald Trump के साथ एक ऐतिहासिक रैली करेंगे. इस रैली में प्रधानमंत्री मोदी भारतीय मूल के 50 हजार लोगों को संबोधित करेंगे. इस इवेंट का नाम है Howdy Modi और इसकी पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है. अमेरिका में भारत की बढ़ती ताकत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बढ़ती लोकप्रियता से पाकिस्तान काफी परेशान है. और यहां भी पाकिस्तान अपने Favourite काम में लग गया है और पाकिस्तान का पसंदीदा काम है दुष्प्रचार और Propaganda.

अब हम अमेरिका के Houston में Howdy Modi इवेंट के खिलाफ पाकिस्तान की जेहादी साजिश का विश्लेषण करेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 22 सितंबर को होने वाले कार्यक्रम के विरोध में पाकिस्तान ने दुष्प्रचार करना शुरू कर दिया है. Houston में सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी का विरोध करने वाले संदेश वायरल किए जा रहे हैं और इसके लिए वहां की मस्जिदों और इस्लामिक सेंटर का भी इस्तेमाल किया जा रहा है. सोशल मीडिया पर वायरल एक मैसेज में प्रधानमंत्री मोदी का विरोध करने के लिए, Houston की 13 जगहों पर लोगों से इकट्ठा होने की अपील की गई है.

DNA की टीम ने इन सभी 13 जगहों के बारे में और पता लगाया. हमने अमेरिका के नक्शे की जांच की और इस नतीजे पर पहुंचे कि ये सभी लोकेशन प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम स्थल से करीब 11 किलोमीटर से लेकर 77 किलोमीटर के दायरे में हैं अमेरिका में ये दूरी सिर्फ 20 मिनटों में तय की जा सकती है. हैरान करने वाली बात ये है, कि जिन 13 लोकेशन की जानकारी शेयर की जा रही है उनमें से 5 मस्जिदें हैं, 7 इस्लामिक सेंटर हैं और एक मदरसा भी है. वायरल मैसेज के मुताबिक, इन सभी लोकेशन पर इकट्ठा हुए लोगों को Howdy Modi कार्यक्रम की जगह पर ले जाया जाएगा. जहां पर विरोध करने के लिए स्थान पहले से तय है.

पाकिस्तान ने विरोध प्रदर्शन के लिए अमेरिका में कश्मीर के नाम पर होर्डिंग्स लगवाए हैं. जिसमें लोगों से प्रधानमंत्री मोदी का विरोध करने की अपील की है. Houston में पाकिस्तानी मूल के लोगों के बीच पोस्टर और Pamphlet बांटे जा रहे हैं. इन पोस्टरों में कश्मीर और प्रधानमंत्री मोदी के बारे में इतनी आपत्तिजनक बातें लिखी हैं, कि हम आपको ये दिखा भी नहीं सकते. वैसे आपको बता दें कि भारत के मुकाबले पाकिस्तान एक छोटा सा देश है. और विरोध की इस तैयारी को देखने के बाद लगता है कि पाकिस्तान के नेताओं की सोच भी छोटे दर्जे की है.

पाकिस्तान के इस Propaganda को अमेरिका में मौजूद देशभक्त भारतीय फेल कर रहे हैं. Houston में हमारी सहयोगी अदिति त्यागी मौजूद हैं, जिन्होंने जम्मू कश्मीर से अमेरिका जाकर हमारा नाम ऊंचा कर रहे भारतीयों से बातचीत की है. 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद अमेरिका में मौजूद कश्मीरी कितने खुश हैं ये जानने के लिए आपको Houston में तैयार किया गया हमारा स्पेशल विश्लेषण देखना चाहिए.

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म होने की खुशी Houston में बसे कश्मीर के लोगों में भी है. अब इन लोगों को नए कश्मीर में उम्मीद की किरण दिखाई दे रही है. उन्हें लगता है कि अब वो जल्द ही कश्मीर वापस लौट पाएंगे. ये बातें कश्मीर पर पाकिस्तान के दुष्प्रचार को आईना दिखा रही हैं. अब हम पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की... मजहब के दिखावे वाली कूटनीतिक यात्रा का विश्लेषण करेंगे. कहते हैं कि कूटनीति में हर तस्वीर का एक मतलब होता है ऐसी ही एक तस्वीर कल सऊदी अरब से आई है. अमेरिका जाने से पहले इमरान खान कल सऊदी अरब में मुसलमानों के तीर्थस्थल मक्का पहुंचे. तस्वीरों में आप सफेद कपड़ों में इमरान खान को देख सकते हैं जो कई कमांडोज़ से घिरे हुए हैं. इस यात्रा में इमरान खान के साथ काले बुर्के में उनकी पत्नी बुशरा बेगम भी मौजूद थीं.
 

मुसलमानों के सबसे बड़े तीर्थस्थल मक्का से ये तस्वीर दिखाकर, इमरान ख़ान दुनिया के सभी मुस्लिम देशों को एक करना चाहते हैं. मक्का में तीर्थयात्रा करते इमरान खान की ये तस्वीर एक मुस्लिम कार्ड की तरह है. जिसे दिखाकर वो मुस्लिम देशों का सबसे बड़ा नेता बनना चाहते हैं. इमरान खान की कोशिश है, कि जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर मुस्लिम देश भारत के खिलाफ उनकी मदद करें. लेकिन सच्चाई ये है कि अब मुस्लिम देश भी पाकिस्तान के बहकावे में नहीं आ रहे हैं.