नेचुरल तरीके से टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए पुरुष खाने में शामिल करें बस ये 5 चीजें, देखिए कैसे बढ़ता है ये हार्मोन
X

नेचुरल तरीके से टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए पुरुष खाने में शामिल करें बस ये 5 चीजें, देखिए कैसे बढ़ता है ये हार्मोन

आंतरिक शक्ति बढ़ाने वाले के तौर पर पहचाने जाने वाला टेस्टोस्टेरोन पुरुषों के लिए बहुत जरूरी होता है जो उन्हें कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं बचाने में हेल्प करता है.

नेचुरल तरीके से टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए पुरुष खाने में शामिल करें बस ये 5 चीजें, देखिए कैसे बढ़ता है ये हार्मोन

नई दिल्ली: आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में आजकल खाने-पीने पर सही से ध्यान न देने के कारण महिलाओं और पुरुषों को कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है. सही से डाइट न लेने के कारण खासकर पुरुषों के अंदर कई तरह के हार्मोंस का असंतुलन देखने को मिलता है. इन्हीं हार्मोंस में से एक का नाम टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) है. आंतरिक शक्ति बढ़ाने वाले के तौर पर पहचाने जाने वाला टेस्टोस्टेरोन पुरुषों के लिए बहुत जरूरी होता है जो उन्हें कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं बचाने में हेल्प करता है.

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए फूड्स (Foods To Increase Testosterone) का सेवन किया जाता है. कुछ ऐसे फूड्स हैं जो नेचुरल तरीके से टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं. यहां आपको बता रहे हैं कि टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के लिए अपने डाइट में किन फूड्स को शामिल किया जा सकता है.

10 किशमिश में छुपा है जवानी का राज, बस इस तरह से खाएं रोजाना

 

1-हरी पत्तेदार सब्जियां की मात्रा बढ़ाएं

वैसे तो सभी को हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करना चाहिए. लेकिन पुरुष हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करके टेस्टोस्टेरोन की कमी को दूर कर सकते हैं. हरी पत्तेदार सब्जियों को मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व का एक अच्छा स्रोत माना जाता है. कई रिसर्च में सामने आया है कि पालक जैसी हरी पत्‍तेदार सब्जियां शरीर में टेस्टोस्टेरोन लेवल बढ़ाने के लिए बेहद फायदेमंद साबित होती हैं.

छोटे-छोटे काले बीजों की तरह दिखने वाले 'फालसे' में हैं जादुई गुण, इस Summer फ्रूट से बढ़ेगी इम्युनिटी

2-अनार का सेवन करेगा फायदा
अनार फलों में सबसे ज्यादा हेल्दी माना जाता है. इसका सेवन कर भी पुरुषों को टेस्टोस्टोरेन लेवल को बढ़ाने में मदद मिल सकती है. रोजाना अनार का जूस पीने से कई तरह के फायदे हो सकते हैं. उनमें से एक टेस्टोस्टोरेन का लेवल बढ़ाना भी शामिल है.

3- शहद का सेवन लाभदायक
शहद में बोरॉन (boron) होता है जो एक नैचुरल मिनरल (natural mineral) है. ये  टेस्टोस्टेरोन के लेवल को बढ़ाने में मदद करता है. इसके साथ ही मजबूत हड्डियों का निर्माण करता है. इसलिए रोजाना शहद का सेवन करके भी टेस्टोस्टेरोन के स्तर बढ़ाया जा सकता है.

4- मछली और फिश ऑयल (Fatty fish and fish oil)
हफ्ते में 2 बार फिश या सुमद्री भोजन जरूर खाना चाहिए. दरअसल, फैट युक्त मछली काफी फायदेमंद हो सकती है क्योंकि ये ओमेगा-3 फैटी एसिड (omega-3 fatty acids) में काफी हाई होती है. एक व्यक्ति मछली के तेल या ओमेगा -3 की खुराक लेकर अपने फैटी एसिड लेवल (fatty acid level) को भी बढ़ा सकता है.

5-अदरक में होते हैं ये चमत्कारी गुण
अदरक न सिर्फ चाय का स्वाद बढ़ाने के लिए काम आता है बल्कि ये पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को भी बढ़ा सकता है. अदरक में औषधीय गुण होते हैं जो पुरुषों में प्रजनन क्षमता (Fertility) को बढ़ाने में फायदेमंद हो सकते हैं. अदरक को अपनी डाइट में शामिल करने से टेस्टोस्टेरोन लेवल को बढ़ाया जा सकता है. अदरक को डाइट में शामिल करने के कई तरीके हैं. अदरक को चाय, काढ़ा और सब्जियों में डालकर खा सकते हैं.

सामान्य तौर पर उम्र बढ़ने के साथ टेस्टोस्टेरॉन के स्तर में गिरावट 

पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन नामक हार्मोन ही सेक्स की इच्छा को बढ़ाता है. बदलती लाइफस्टाइल, गलत खानपान और तनाव पुरुषों में सेक्स हार्मोन की कमी का मुख्य कारण है. सामान्य तौर पर उम्र बढ़ने के साथ टेस्टोस्टेरॉन के स्तर में गिरावट देखने को मिलती है. हालांकि अब 30 साल के पुरुषों में भी टेस्टोस्टेरॉन के स्तर में गिरावट देखने को मिल रही है.  यह बहुत जरुरी है कि आप टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को हमेशा बनाए रखें, नहीं तो आगे चल कर आपको बहुत सारी परेशानियों को झेलना पड़ सकता है.

क्या होता है  टेस्‍टोस्‍टेरॉन (Testosteron)?
ये पुरुष के शरीर में पाया जाने वाला एक ऐसा हार्मोन है, जो शरीर को कई रोगों से बचाता है. इसके साथ ही इसे सेक्‍स हार्मोन भी कहा जाता है. टेस्टोस्टेरोन पुरुषों के आंतरिक हिस्से में पैदा होता है. इस हार्मोन से ही पुरुषों के चेहरे पर बाल और Sexual ability प्रभावित होती है. आमतौर पर इस हार्मोन को पौरुषत्व के तौर पर देखा जाता है.

टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन उम्र के साथ कम होने लगता है. एक रिसर्च के मुताबिक 30 और 40 की उम्र के बाद इसमें हर साल दो फ़ीसदी की गिरावट आने लगती है. इसमें  गिरावट सेहत से जुड़ी कोई समस्या नहीं है, लेकिन कुछ ख़ास बीमारियों, इलाज या चोटों के कारण सामान्य से कम हो जाता है. अपनी डाइट के जरिए हम इस समस्या को काफी हद तक दूर कर सकते हैं.

डिस्क्लेमर: ये सलाह और सामग्री केवल सामान्य जानकारी के लिए दी गई है. ये किसी भी तरह से डॉक्टरी ट्रीटमेंट के लिए नहीं हैं. किसी भी परेशानी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से राय  जरूर लें.

मैरिड लाइफ में नहीं रहा एक्साइटमेंट, तो किचन में मौजूद इन चीजों का करें सेवन फिर देखें कमाल

WATCH LIVE TV

Trending news