15 अगस्त को ही क्यों मिली भारत को आजादी? जानिए इस दिन से जुड़े रोचक तथ्य

भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड माउंटेन के प्रेस सचिव कैंपबेल जॉन्सन के अनुसार मित्र देश कि सेनाओं के सामने जापान के आत्मसमर्पण की दूसरी वर्षगांठ 15 अगस्त को पड़ रही थी. इस कारण से इसी दिन भारत को आजाद करने का फैसला किया गया

 15 अगस्त को ही क्यों मिली भारत को आजादी? जानिए इस दिन से जुड़े रोचक तथ्य
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: 15 अगस्त पूरे भारतवर्ष के लिए उत्साह और उल्लास का दिन होता है. इस दिन हम अपना स्वतंत्रता दिवस मानते हैं. यह दिन किसी भी जाती, धर्म, प्रांत और संस्कृति से बड़ा है. आज जब हम अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं, तो हमारे लिए आवश्यक हो जाता है कि हम इस दिन के महत्व को समझें. चलिए हम आपको इस दिन से जुड़े कुछ महतवपूर्ण तथ्यों से रूबरू कराते हैं?

- भारत के तल्कालीन वायसराय लॉर्ड माउंटेन के प्रेस सचिव कैंपबेल जॉन्सन के अनुसार मित्र देश की सेनाओं के सामने जापान के आत्मसमर्पण की दूसरी वर्षगांठ 15 अगस्त को पड़ रही थी. इस कारण से इसी दिन भारत को आजाद करने का फैसला किया गया.

- 15 अगस्त भारत के अलावा तीन अन्य देशों के भी स्वतंत्रता दिवस हैं. दक्षिण कोरिया, जापान से 15 अगस्त 1945 में अलग हुआ था. ब्रिटेन से बहरीन को 15 अगस्त 1971 को आजादी मिली थी और फ़्रांस ने कोंगो को 15 अगस्त 1960 को स्वतंत्र घोषित किया था.

- 15 अगस्त 1519 को पनामा शहर बनाया गया था.

- 15 अगस्त, 1854 को ईस्ट इंडिया कंपनी रेलवे ने कलकत्ता यानी वर्तमान के कोलकाता से हुगली तक ट्रेन चलाई थी. अधिकारिक रूप से इसका संचालन 1855 में हो सका था.     

- भारत के स्वाधीनता आंदोलन का नेतृत्व महात्मा गांधी ने किया था, आजादी के जश्न में स्वयं महात्मा गांधी शामिल नहीं हुए थे.

- बापू उस दिन दिल्ली से हजारों किलोमीटर दूर बंगाल के नोआखली में थे, जहां वे हिन्दू-मुस्लिम के बीच हो रहे सांप्रदायिक दंगों को रोकने के लिए अनशन कर रहे थे.

- हर स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय प्रधानमंत्री लाल किले से झंडा फहराते हैं, लेकिन 15 अगस्त 1947 को ऐसा नहीं हुआ था. लोकसभा के सचिवालय एक शोधपत्र के मुताबिक पंडित नेहरू ने 16 अगस्त को लाल किले से झंडा फहराया था.

- 15 अगस्त तक भारत-पकिस्तान के बीच सीमारेखा का निर्धारण नहीं हुआ था.

VIDEO