जेटली बोले- 'महागठबंधन में हर कोई प्रधानमंत्री बनना चाहता है, अभी ये हाल है तो आगे क्या होगा '

 'विपक्षी दल चुनाव से पहले एक दूसरे का टांग खींच रहे हैं. वहां तलवारें बाहर आ जाएंगी, चुनाव के बाद कोई विचारधारा नहीं है कोई नीतियों की स्वच्छता नहीं है.'

जेटली बोले- 'महागठबंधन में हर कोई प्रधानमंत्री बनना चाहता है, अभी ये हाल है तो आगे क्या होगा '
फोटो- यू ट्यूब वीडियो ग्रैब

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव (Lok sabha elections 2019) वित्त मंत्री अरुण जेटली ने महागठबंधन पर जमकर प्रहार किया और भरोसा जताया कि मोदी एक बार फिर पीएम बनेंगे. अरुण जेटली ने कहा, 'महागठबंधन में सब एक दूसरे की टांग खींच रहे हैं, वहां हर कोई प्रधानमंत्री बनना चाहता है. मायावती, ममता बनर्जी, शरद पवार, राहुल गांधी. अगर चुनाव के पहले ये हाल है तो चुनाव के बाद तो तलवारें खींच जाएंगी. देश की जनता को तय करना है कि उनको एक मजबूत भरोसे वाली सरकार चाहिए या 6-8  महीने वाली.' 

जेटली ने आगे कहा, 'आज हिंदुस्तान एक ऐतिहासिक मोड़ पर खड़ा है. आज विश्व में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था हम हैं, इस देश में गरीबी थी. आज से मुक्ति पाने का ऐतिहासिक मौका है और इस अवसर का पूरा लाभ उठाने के लिए, इसके लिए हमें एक स्थिर सरकार चाहिए. जिसकी नीतियों में सस्ता हो, जिसकी दिशा सहयोग और जिसका नेतृत्व मजबूत हो. श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार चली इस देश के संघीय ढांचे को हम लोग उसका आदर करते हैं और यही कारण था बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला. लेकिन अलग-अलग दलों को हमने शामिल किया वाजपेयी जी ने भी किया था. किसी भी देश के कोने कोने का प्रतिनिधित्व लेकिन सरकार मजबूत हो वो किसी दवाब के सामने झुकने वाला ना हो कोई विवाद ना हो दो बार इसी आधार पर दो बार एनडीए की सरकार चली.'

वित्त मंत्री जेटली ने कहा, 'विपक्षी दल चुनाव से पहले एक दूसरे का टांग खींच रहे हैं. वहां तलवारें बाहर आ जाएंगी, चुनाव के बाद कोई विचारधारा नहीं है कोई नीतियों की स्वच्छता नहीं है. देशवासियों को तय करना है कि सरकार 6 महीने की चुननी है या 5 साल की चुननी है. ऐसे अनुभव जब जब हुए चौधरी चरण सिंह वीपी सिंह चंद्रशेखर, आईके गुजराल के नेतृत्व में 5-7 महीने से ज्यादा सरकार नहीं चली. 5 साल के एक अच्छे अनुभव के बाद, एक सफल प्रयोग के चलते नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में फिर से सरकार बनेगी.'