close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बठिंडा से कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी ने साधा हरसिमरत कौर पर निशाना

अमृता ने दावा किया कि इस हाई प्रोफाइल सीट पर मुकाबला एकतरफा होगा और उनके पति विजयी रहेंगे. बठिंडा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के गांवों में आक्रामक तरीके से चुनाव प्रचार कर रहीं.

बठिंडा से कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी ने साधा हरसिमरत कौर पर निशाना
फोटो सौजन्य: ट्विटर

बठिंडाः लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में बठिंडा सीट से शिरोमणि अकाली दल की प्रत्याशी हरसिमरत कौर बादल के खिलाफ कांग्रेस ने अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को मैदान में उतारा है. पिछली बार इस सीट से हरसिमरत कौर ने कांग्रेस के मनप्रीत सिंह बादल को कांटे के मुकाबले में हराया था. इसलिए इस बार कांग्रेस पार्टी ने इस सीट से अपने युवा नेता अमरिंदर सिंह राजा को खड़ा किया है. कांग्रेस नेता के लिए चुनाव प्रचार कर रहीं उनकी पत्नी अमृता वड़िंग ने मौजूदा सांसद हरसिमरत कौर बादल पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने पिछले एक दशक में निर्वाचन क्षेत्र के लिए ‘‘कुछ नहीं किया’’.

अमृता ने दावा किया कि इस हाई प्रोफाइल सीट पर मुकाबला एकतरफा होगा और उनके पति विजयी रहेंगे. बठिंडा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के गांवों में आक्रामक तरीके से चुनाव प्रचार कर रहीं अमृता ने कहा कि यहां लोग पेयजल एवं बुनियादी ढांचे की कमी की समस्या से जूझ रहे हैं.

अमृता ने मीडिया से कहा, ‘‘मैं अब तक 190 गांवों में गई हूं और मैं उनकी हालत देखकर बहुत दुखी हूं. हर ग्रामीण सड़क, स्कूल जैसी मूलभूत सुविधाओं की मांग कर रहा है.’’  उन्होंने कहा, ‘‘मैं जिस भी गांव में गई, उनमें से किसी में भी पेयजल नहीं था. वहां महिलाओं ने मुझे बताया कि पानी की कमी के कारण वे दो दो दिन तक नहीं नहा पाती है .’’ अमृता ने अपने पति की जीत का भरोसा जताते हुए कहा, ‘‘राजा वड़िंग को लेकर लोगों में बहुत उत्साह है. लोग उनका समर्थन कर रहे हैं. अब यहां कोई मुकाबला नहीं है. मैं कहूंगी कि यह एकतरफा मुकाबला है.’’ 

अमृता ने कहा, ‘‘चुनाव प्रचार के लिए बठिंडा आने से पहले मुझे यह लगता था कि यहां बहुत विकास हुआ होगा क्योंकि हरसिमरत 10 साल से यहां की सांसद हैं, लेकिन मैं ग्रामीणों की स्थिति देखकर हैरान हूं.’’ ‘आसरा’ एनजीओ चलाने वाली अमृता ने दावा किया कि हरसिमरत स्थानीय समुदाय के विकास के लिए निर्वाचन क्षेत्र में कोई बड़ी औद्योगिक परियोजना नहीं लेकर आईं. उन्होंने कहा, ‘‘बठिंडा निर्वाचन क्षेत्र के 550 गांवों में एम्स के अलावा और कुछ नहीं है.’’ अमृता ने कहा, ‘‘हरसिमरत खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हैं और वह एक भी इकाई यहां नहीं ला पाईं.’’ पंजाब की सभी 13 लोकसभा सीटों के लिए 19 मई को मतदान होगा.