गया से चुनाव लड़ रहे हैं जीतन राम मांझी, JDU उम्मीदवार विजय मांझी से है सीधी टक्कर

गया सीट जेडीयू और हम के बीच सीधी टक्कर है. ज्ञात हो कि मांझी की पार्टी महागठबंधन का हिस्सा है. सीट शेयरिंग में हम को तीन सीटें मिली हैं.

गया से चुनाव लड़ रहे हैं जीतन राम मांझी, JDU उम्मीदवार विजय मांझी से है सीधी टक्कर
गया से महागठबंधन के उम्मीदवार हैं जीतन राम मांझी.

गया : लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. पहले चरण के लिए नॉमिनेशन की प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है. पहले चरण में बिहार के चार लोकसभा सीटों पर मतदान होंगे. इनमें गया, नवादा, जमुई और औरंगाबाद शामिल है. गया सीट को वीआईपी सीट माना जा रहा है, क्योंकि यहां से बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा (हम) के सुप्रीमो जीतन राम मांझी अपनी पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ रहे हैं. उनका मुकाबला जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) उम्मीदवार विजय कुमार मांझी से है.

गया सीट जेडीयू और हम के बीच सीधी टक्कर है. ज्ञात हो कि मांझी की पार्टी महागठबंधन का हिस्सा है. सीट शेयरिंग में हम को तीन सीटें मिली हैं.

बीते चुनाव के आंकड़ों पर अगर गौर करें तो यहां एनडीए का पलरा भारी है. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार हरी मांझी यहां से चुनाव जीतने में सफल रहे थे. उन्हें कुल 40.30 प्रतिशत वोट मिले थे. वहीं, आरजेडी उम्मीदवार 26.03 प्रतिशत मतों के साथ दूसरे स्थान पर रहे थे.

JDU candidate from Gaya
नॉमिनेशन फाइल करते हुए जेडीयू उम्मीदवार.

2014 के लोकसभा चुनाव में जीतन राम मांझी बतौर जेडीयू उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे थे. वह 16.28 प्रतिशत मतों के साथ तीसरे नंबर पर रहे थे. दलगत स्थिति पर गौर करें तो इस वर्ष बीजेपी, जेडीयू और लोजपा साथ-साथ चुनाव लड़ ही है. इसलिए एनडीए उम्मीदवार खुद को यहां कमतर नहीं आंक रहे हैं. नॉमिनेशन के दौरान एकजुटता दिखाने की भी कोशिश हुई.

वहीं, दूसरी तरफ व्यक्तिगत छवि की बात करें तो जीतन राम मांझी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके हैं साथ ही वह अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष है. मांझी को आरजेडी और स्थानीय होने के कारण खुद के वोट बैंक पर पूरा भरोसा है. साथ ही कांग्रेस और आरएलसपी के महागठबंधन का हिस्सा होने के कारण लड़ाई दिलचस्प होने वाली है.