तम‍िलनाडु में BJP से अन्‍नाद्रमुक का होगा गठबंधन, पन्‍नीरसेल्‍वम बोले-एक दो दिन में होगा अच्‍छा फैसला

तमिलनाडु के उप-मुख्यमंत्री पन्‍नीरसेल्वम ने कहा कि अन्नाद्रमुक संसदीय चुनावों के लिए गठबंधन करने की खातिर राष्ट्रीय एवं राज्य की पार्टियों से लगातार बातचीत कर रही है.

तम‍िलनाडु में BJP से अन्‍नाद्रमुक का होगा गठबंधन, पन्‍नीरसेल्‍वम बोले-एक दो दिन में होगा अच्‍छा फैसला

चेन्नई: आगामी लोकसभा चुनाव के लिए तमिलनाडु में अन्नाद्रमुक और भाजपा के बीच गठबंधन की खातिर हो रही बातचीत की खबरों के बीच राज्य में सत्ताधारी पार्टी ने शुक्रवार को कहा कि विभिन्न पार्टियों के साथ गठबंधन को अंतिम रूप देने को लेकर जल्द ही फैसला किया जाएगा. यह पूछे जाने पर कि क्या अन्नाद्रमुक और भाजपा के बीच गठबंधन होने वाला है, इस पर अन्नाद्रमुक के समन्वयक ओ. पन्‍नीरसेल्वम ने बताया, ‘एक-दो दिन में अच्छा, सद्भावपूर्ण फैसला ले लिया जाएगा.’ केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद और पार्टी की प्रदेश इकाई की अध्यक्ष टी. सुंदरराजन ने यकीन जाहिर किया कि राज्य में प्रभावशाली गठबंधन किया जाएगा.

तमिलनाडु के उप-मुख्यमंत्री पन्‍नीरसेल्वम ने कहा कि अन्नाद्रमुक संसदीय चुनावों के लिए गठबंधन करने की खातिर राष्ट्रीय एवं राज्य की पार्टियों से लगातार बातचीत कर रही है. हालांकि, उन्होंने किसी पार्टी का नाम नहीं लिया. केंद्रीय मंत्री और भाजपा में तमिलनाडु के चुनाव प्रभारी पीयूष गोयल ने एक दिन पहले कहा था, ‘सारी संभावनाओं पर चर्चा हो रही है, विचार हो रहा है. सही समय पर हम आपको खुशखबरी देंगे.’

गोयल ने गुरुवार की रात अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता एवं राज्य सरकार में मंत्री पी थंगमणि से बातचीत की थी. थंगमणि को मुख्यमंत्री के. पलानीसामी का करीबी माना जाता है. यह पूछे जाने पर क्या उनकी पार्टी जानेमाने अभिनेता रजनीकांत से समर्थन मांगेगी, इस पर पन्‍नीरसेल्वम  ने सीधा जवाब नहीं दिया और सिर्फ इतना कहा, ‘चुनावी जीत साबित कर देगी कि लोग अन्नाद्रमुक के साथ हैं.’ मदुरै में पत्रकारों को संबोधित करते हुए प्रसाद ने कहा, ‘तमिलनाडु में एनडीए का प्रभावशाली गठबंधन बनेगा.’

उन्होंने कहा कि भाजपा बहुत जल्द अपने ‘‘रणनीतिक साझेदार’’ पर अंतिम फैसला कर लेगी और बहुत मजबूत एनडीए, कांग्रेस एवं द्रमुक से मुकाबला करेंगे. बता दें कि तम‍िलनाडु में 2014 के चुनाव में अन्‍नाद्रमुक ने 39 में 37 सीटें जीती थीं. हालांकि तब पार्टी की बागडोर पूर्व मुख्‍यमंत्री दि‍वंगत जयलल‍ि‍ता के पास थी.