close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मैनपुरी महागठबंधन रैली: मंच पर क्यों 4 से 3 कर दी गईं कुर्सियां, जानें पूरी कहानी

रैली शुरू होने से पहले ही एक कुर्सी को हटा दिया, जिसके बाद वहां पहुंचे सपा, बसपा और आरएलडी कार्यकर्ताओं में सुगभुगाहट शुरू हो गई. 

मैनपुरी महागठबंधन रैली: मंच पर क्यों 4 से 3 कर दी गईं कुर्सियां, जानें पूरी कहानी

नई दिल्ली/मैनपुरी : उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से 16 सीटों पर दो चरणों में चुनाव हो चुके हैं. तीसरे चरण के लिए 23 अप्रैल को मतदान होना है. 24 साल बाद मैनपुरी में मायावती और मुलायम सिंह मंच साझा कर हैं. मैनपुरी के क्रिस्चियन मैदान में शुक्रवार (19 अप्रैल) को महागठबंधन की चौथी संयुक्त रैली हो रही है. मंच पर मुलायम सिंह यादव, मायावती और अखिलेश यादव मौजूद हैं. रैली शुरी होने से कुछ देर पहले मंच से एक कुर्सी को हटा दिया गया था, जो थोड़ी ही देर में सुर्खियों में आ गई. 

रैली से थोड़ी देर पहले हटाई एक कुर्सी
दरअसल, मैनपुरी में होने वाली महारैली में मैनपुरी से महागठबंधन प्रत्याशी मुलायम सिंह यादव के लिए वोट की अपील करने के लिए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बीएसपी सुप्रीमो मायावती, रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह, बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्र समेत कई बड़े चेहरे शिरकत करने की खबर थी. इसलिए मंच पर चार कुर्सियां रखीं गई थी. लेकिन रैली शुरू होने से पहले ही एक कुर्सी को हटा दिया, जिसके बाद वहां पहुंचे सपा, बसपा और आरएलडी कार्यकर्ताओं में सुगभुगाहट शुरू हो गई. 

अजीत सिंह नहीं हुए शामिल
कुर्सी हटाने की मुख्य वजह ये रही कि किसी कारण की वजह से रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह इस रैली में नहीं पहुंचे. इसलिए रैली शुरू होने से कुछ समय पहली ही मंच में आगे से रखी 4 कुर्सियों को 3 किया गया. 

एकजुटता का संदेश
क्रिश्चियन कॉलेज मैदान में आयोजित रैली स्थल पर बनाए गए मंच पर डॉ भीमराव आंबेडकर, छत्रपति शाहूजी महाराज, बीएसपी के संस्थापक कांशीराम, पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह और राम मनोहर लोहिया की तस्वीरें लगाई गई हैं. इनके जरिए जनता में एकजुटता का सन्देश देने की कोशिश है.