close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस के संकट के बीच शशि थरूर ने कहा, 'मैं लोकसभा में पार्टी नेता बनने को तैयार'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा कि अगर पार्टी उन्हें लोकसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता पद की पेशकश करती है तो वह इस दायित्व को निभाने के लिए तैयार हैं.

कांग्रेस के संकट के बीच शशि थरूर ने कहा, 'मैं लोकसभा में पार्टी नेता बनने को तैयार'

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा कि अगर पार्टी उन्हें लोकसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता पद की पेशकश करती है तो वह इस दायित्व को निभाने के लिए तैयार हैं. तिरुवनंतपुरम से लगातार तीसरी बार सांसद चुने गए थरूर ने सोमवार को एक टीवी चैनल से  कहा, "अगर पेशकश की गई, तो मैं कांग्रेस का लोकसभा नेता बनने के लिए तैयार हूं."

उन्होंने स्वीकार किया कि कांग्रेस की मुख्य चुनावी थीम 'न्याय' को मतदाताओं के समक्ष ठीक से नहीं रखा गया और इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की 'नरम हिंदुत्व' की नीति की ओलाचना की. उन्होंने हालांकि जोर देकर कहा कि राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बने रहना चाहिए.

इस्‍तीफा देने पर अड़े राहुल गांधी ने अशोक गहलोत को पहले समय दिया, बाद में मिलने से इनकार किया

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, "पार्टी उनकी सहायता के लिए क्षेत्रीय कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति पर विचार कर सकती है." थरूर 2009 से तिरुवनंतपुरम संसदीय सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. 2014 में उन्होंने भाजपा के ओ.राजगोपाल के विरुद्ध मात्र 15,000 मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी.

कांग्रेस के 3 और प्रदेश अध्यक्षों का इस्तीफा
लोकसभा चुनाव में कई राज्यों में कांग्रेस पार्टी की करारी हार के बाद पार्टी के तीन और प्रदेश अध्यक्षों ने अपने इस्तीफे दे दिए हैं. इसके साथ ही इस्तीफा देने वाले प्रदेश अध्यक्षों की संख्या सात हो गई है. कांग्रेस पार्टी के झारखंड, असम और पंजाब के अध्यक्षों ने इस्तीफा दे दिया है. इसके पहले महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और ओडिशा के अध्यक्षों ने इस्तीफा दिया था. कर्नाटक प्रदेश की प्रचार समिति के अध्यक्ष एच.के. पाटील ने भी इस्तीफा दे दिया है.

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने गुरुदासपुर सीट पर अभिनेता सन्नी देओल के हाथों हारने की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया है. कांग्रेस ने वैसे पंजाब की 13 में से आठ सीटें जीत कर अच्छा प्रदर्शन किया है. कांग्रेस की झारखंड इकाई के अध्यक्ष अजय कुमार ने भी इस्तीफा दे दिया है. पार्टी राज्य में मात्र एक सीट जीत पाई है, जहां इसने झामुमो, राजद और अन्य दलों के साथ गठबंधन किया था.

पार्टी ने सिंहभूम सीट पर जीत दर्ज कराई, जबकि खूंटी सीट 1,445 मतों से और लोहरदगा 10,363 वोटों से हार गई. पार्टी की असम इकाई के अध्यक्ष रिपुन बोरा ने भी राज्य में पार्टी की सीटें न बढ़ने की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया है. पार्टी पिछले चुनाव में भी तीन सीटें जीती थी और इस चुनाव में भी तीन सीटें ही जीत पाई. महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चव्हाण, उत्तर प्रदेश के पार्टी अध्यक्ष राज बब्बर, और ओडिशा कांग्रेस के अध्यक्ष निरंजन पटनायक पहले ही अपने इस्तीफे सौंप चुके हैं.

उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले के कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्र मिश्रा ने भी राहुल गांधी की अमेठी में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया है. गांधी ने खुद पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की, लेकिन कांग्रेस कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से इस पेशकश को खारिज कर दिया.

(इनपुट: एजेंसी आईएएनएस)