close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

US ने स्नोडोन पर लगाया जासूसी और चोरी का आरोप

अमेरिका के विवादास्पद खुफिया निगरानी कार्यक्रम संबंधी जानकारी लीक करने वाले सीआईए के पूर्व निजी कांट्रेक्टर एड्वर्ड स्नोडेन पर जासूसी और सरकारी संपत्ति की चोरी करने का आरोप लगाया गया है।

वाशिंगटन : अमेरिका के विवादास्पद खुफिया निगरानी कार्यक्रम संबंधी जानकारी लीक करने वाले सीआईए के पूर्व निजी कांट्रेक्टर एड्वर्ड स्नोडेन पर जासूसी और सरकारी संपत्ति की चोरी करने का आरोप लगाया गया है।
वर्जीनिया की जिला अदालत में पिछले सप्ताह दर्ज की गई शिकायत के अनुसार स्नोडेन पर जासूसी करने, सरकारी डाटा चुराने और अनाधिकृत व्यक्ति को गोपनीय सूचना देने का आरोप लगाया गया हैं।
29 वर्षीय स्नोडेन को उसके नियोक्ता बूज एलेन हैमिल्टन ने पहले ही नौकरी से हटा दिया है। स्नोडेन हांग कांग गया था लेकिन अब वह कहां है, इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।
एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका ने हांगकांग की सरकार से स्नोडेन को गिरफ्तार करने को कहा है। यदि उसे अमेरिका प्रत्यर्पित किया जाता है और अदालत में दोषी पाया जाता है तो उसे उसके उपर लगे प्रत्येक आरोप के तहत 10 साल कारावास की सज़ा होगी।
स्नोडेन द्वारा लीक किए गए दस्तावेज़ सबसे पहले द गार्जियन और द वाशिंगटन पोस्ट में प्रकाशित हुए थे।
इन दस्तावेज़ों में लाखों अमेरिकी लोगों के फोन रिकार्ड करने और संदिग्ध विदेशी आतंकवादियों के इंटरनेट इस्तेमाल पर नज़र रखे जाने के अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) के गोपनीय कार्यक्रम की जानकारी दी गई थी।
स्नोडेन के इस कदम से सरकारी निगरानी पर उचित सीमा लगाए जाने के मामले पर राष्ट्रीय स्तर पर बहस छिड़ गई है। अमेरिकी खुफिया अधिकारियों ने कहा है कि स्नोडेन के जानकारी लीक करने से राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीर खतरा पैदा हो गया है क्योंकि इससे आतंकवादियों और अन्य को खुफिया जाल से बचने की जानकारी मिलने गई है।
ओबामा प्रशासन ने कार्यक्रम के बचाव में दलील दी है कि इसकी मदद से 20 देशों में 50 आतंकवादी साजिशों को नाकाम करने में मदद मिली है। हालांकि, कई देशों ने इस कार्यक्रम का विरोध किया है। (एजेंसी)