close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मनरेगा दयनीय हालत में है : ज्यां द्रेज

संप्रग सरकार की महत्वाकांक्षी योजना मनरेगा को खत्म करने की मांग के बीच मशहूर अर्थशास्त्री-कार्यकर्ता ज्यां द्रेज ने सरकार से कहा है कि ‘दयनीय हालत’ में पहुंच चुके इस कार्यक्रम के लिए कुछ जवाबदेही तय की जाए।

नई दिल्ली : संप्रग सरकार की महत्वाकांक्षी योजना मनरेगा को खत्म करने की मांग के बीच मशहूर अर्थशास्त्री-कार्यकर्ता ज्यां द्रेज ने सरकार से कहा है कि ‘दयनीय हालत’ में पहुंच चुके इस कार्यक्रम के लिए कुछ जवाबदेही तय की जाए। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय सलाहकार परिषद के सदस्य रह चुके द्रेज इस योजना का खाका तैयार करने वालों में शामिल रहे हैं। उन्होंने आगाह किया है कि अगर सरकार तत्काल कदम नहीं उठाती तो यह आगे और कठिन जाएगा।
द्रेज ने पीटीआई से कहा, ‘‘मनरेगा, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ एवं शिक्षा पर संपूर्णता में गौर करने की जरूरत है। लोग मनरेगा में भ्रष्टाचार को लेकर विरोध कर रहे हैं, लेकिन मेरा मानना है कि सरकार की ओर से हमेशा ही अनिच्छा का भाव रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब तक जवाबेदही बहाल नहीं की जाती और कार्रवाई की मांग पर अमल नहीं होता, तब तक मुझे रास्ता यहां से ज्यादा कठिन दिखाई देता है। सबसे अटपटी बात यह है कि जिन कदमों को सुझाया जा रहा है, वे इसी व्यवस्था में मौजूद हैं, लेकिन सरकार ने इनका इस्तेमाल नहीं किया।’’
द्रेज ने दावा किया कि राजनीतिक प्रतिबद्धता का अभाव है और सरकार को अब इसमें :मनरेगा: कोई चुनावी फायदा नहीं दिखता । संसद के मौजूदा बजट सत्र में इस बात की मांग की गई है कि भ्रष्टाचार के कारण मनरेगा को खत्म कर दिया जाना चाहिए। समाजवादी पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव और भाजपा के हुकूम देव नारायण यादव ने भ्रष्टाचार का हवाला देते हुए यह मांग उठाई थी। इस मांग को खारिज करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि यह कार्यक्रम बड़े पैमाने पर ग्रामीण परिवारों के लिए सुरक्षित आमदनी मुहैया करा रहा है। (एजेंसी)