दूसरी नई गेंद से विकेट गंवाना महंगा पड़ा: धोनी

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का मानना है कि दूसरी नई गेंद से विकेट गंवाने और अंपायरों के कुछ गलत फैसलों ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट क्रिकेट मैच में निर्णायक भूमिका निभायी।

ऑकलैंड : भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का मानना है कि दूसरी नई गेंद से विकेट गंवाने और अंपायरों के कुछ गलत फैसलों ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट क्रिकेट मैच में निर्णायक भूमिका निभायी। कीवी टीम ने आज यह मैच 40 रन से जीता। भारत ने नई गेंद से अजिंक्य रहाणे और रोहित शर्मा के विकेट गंवाये। आखिर में ये विकेट महत्वपूर्ण साबित हुए। रहाणे को ट्रेंट बोल्ट की गेंद पर पगबाधा आउट दिया गया जबकि गेंद बल्ले का किनारा लेकर पैड पर लगी थी।
धोनी ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, इस मैच को लेकर मेरी मिश्रित भावनाएं हैं। 85वें ओवर के आसपास हमने कुछ विकेट गंवाये और इस बीच एक फैसला (रहाणे) भी हमारे खिलाफ गया जिससे हमें 30-35 रन का नुकसान भी हुआ और यह मैच का अहम चरण था। भारत ने विदेशों में खेले गये पिछले 11 में से दस टेस्ट मैच गंवाये हैं लेकिन धोनी ने कहा कि इस तरह के करीबी मैचों से खिलाड़ियों को अच्छा अनुभव मिलता है।
उन्होंने कहा, इस तरह के करीबी मैच आपको तीन या चार टेस्ट मैचों को अनुभव दिला देते हैं। आपको सत्र दर सत्र लक्ष्य को कम करने की सीख मिलती है। उम्मीद है कि हमारे कई खिलाड़ियों को इससे सीख मिली होगी। धोनी ने कहा कि इस दौरे में कई अवसरों पर टीम अच्छी स्थिति में थी लेकिन वह इसे जीत में तब्दील नहीं कर पायी। उन्होंने कहा, इस सीरीज में हम अच्छी स्थिति में भी रहे। वनडे में भी ऐसा हुआ लेकिन हम इसका फायदा नहीं उठा पाये। हम अब भी सीख रहे हैं और यदि दूसरे टेस्ट मैच में ऐसी स्थिति होती है तो हम उसका फायदा उठाएंगे।
उन्होंने कहा, दूसरी नई गेंद पांच या छह ओवर तक मूव कर रही थी। यदि हमने तब अपने विकेट नहीं गंवाए होते तो बाकी बचे 40 रन भी बना लेते। इसके अलावा कुछ फैसले भी हमारे खिलाफ गए। इसलिए कुछ चीजें थी जो हमारे अनुकूल नहीं रही। धोनी ने हालंकि अपने गेंदबाजों की तारीफ की। उन्होंने कहा, पहली पारी में हमने अच्छी गेंदबाजी नहीं की जबकि पहले सत्र में हमारा प्रदर्शन अच्छा रहा था। दूसरी पारी में हमारे गेंदबाजों का प्रदर्शन पिछले दो तीन साल का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था। यह इसलिए भी महत्वपूर्ण था क्योंकि विकेट से गेंदबाजों को अधिक मदद नहीं मिल रही थी।
भारतीय कप्तान ने कहा, गेंदबाजों ने दूसरी पारी में वास्तव में हमें मैच में वापसी दिलायी। उन्होंने हमें ऐसी स्थिति में पहुंचा दिया कि हम कह सकते थे कि हां यह बड़ा लक्ष्य है लेकिन इसे हासिल किया जा सकता है। धोनी ने स्वीकार किया कि पहली पारी में भारत बल्ले और गेंद से अच्छा प्रदर्शन कर सकता था। उन्होंने कहा, हमने कुछ ढीली गेंदें की जिससे हम नुकसान में रहे। यदि दो बल्लेबाज जमकर खेल रहे हो तो फिर यह ऐसा विकेट है जिस पर बड़ी पारी खेली जा सकती है और आपने देखा होगा कि ब्रैंडन मैकुलम ने कैसे रन बनाये।
भारत अब वेलिंगटन में इस दौरे का आखिरी मैच खेलने के लिये जाएगा। इस बारे में धोनी ने कहा, इस मैच से हमारा आत्मविश्वास बढ़ा है। दूसरी पारी में हमारी गेंदबाजी वास्तव में शानदार रही। यह देखना दिलचस्प होगा कि हमें अगले मैच में कैसा विकेट मिलता है। उन्होंने कहा, जब हम उपमहाद्वीप से बाहर खेलते हैं तो मैं विकेटों में घास चाहता हूं क्योंकि इससे हमारे तेज गेंदबाजों को मदद मिलती है। वे प्रतिद्वंद्वी टीम को आउट कर सकते हैं जिसका मतलब है कि यह हमारे बल्लेबाजों के लिये परीक्षा की घड़ी होगा। हमें इंतजार करना होगा। (एजेंसी)