close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कार्लसन के लिए नई रणनीति बना रहे हैं आनंद

कैंडिडेट्स शतरंज टूर्नामेंट जीतकर फार्म में लौटे विश्वनाथन आनंद अब दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी मैग्नस कार्लसन के खिलाफ नयी रणनीति बनाने में जुटे हैं ताकि साल के आखिर में विश्व चैम्पियनशिप खिताब उनसे दोबारा हासिल कर सके।

चेन्नई : कैंडिडेट्स शतरंज टूर्नामेंट जीतकर फार्म में लौटे विश्वनाथन आनंद अब दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी मैग्नस कार्लसन के खिलाफ नयी रणनीति बनाने में जुटे हैं ताकि इस साल के आखिर में विश्व चैम्पियनशिप खिताब उनसे दोबारा हासिल कर सके।
आनंद ने आज कहा, ‘मेरी रणनीति बननी शुरू हो गई है। मैंने सोचना शुरू कर दिया है कि मुझे कैसे खेलना है। अगले कुछ महीने मैं अपने विचारों को ठोस रूप देकर रणनीति बनाऊंगा। अप्रैल में मैंने ब्रेक लिया है।’ पांच बार के विश्व चैम्पियन आनंद को पिछले साल नवंबर में कार्लसन ने विश्व चैम्पियनशिप मैच में हराया था। अब 2014 फिडे कैंडिडेट्स टूर्नामेंट जीतकर फार्म में लौटे आनंद के पास बदला चुकता करने का मौका है।
आनंद ने कहा, ‘मुझे पता है कि मुझे कार्लसन से खेलना है लेकिन मैं अपनी रणनीति का खुलासा नहीं करूंगा। अभी इसके बारे में बात नहीं करना चाहूंगा।’ उस मैच के बारे में आनंद ने कहा, ‘वह मैच काफी महत्वपूर्ण होगा। मैंने अपनी रणनीति बनाई है और मैं इस पर चर्चा नहीं करूंगा। सब कुछ सकारात्मक लग रहा है लिहाजा मैं नहीं बताऊंगा कि मेरी रणनीति क्या होगी।’ उन्होंने कहा कि इस तरह की जीत अहम है और परिदृश्य बदलने में इससे मदद मिलती है।
उन्होंने कहा, ‘हालात पूरी तरह से नहीं बदले हैं लेकिन एक अच्छे नतीजे से सब कुछ बदल जाता है। ऐसी जीत जरूरी होती है। इससे सब सकारात्मक हो जाता है।’ आनंद ने पहले कहा था कि उनकी पांच सर्वश्रेष्ठ बाजियां विरोधी खिलाड़ी को मुश्किल में डाल देंगी। यह पूछने पर कि क्या पिछले विश्व चैम्पियनशिप मैच में उन्होंने कार्लसन के खिलाफ यही रणनीति बनाई थी, उन्होंने ना में जवाब दिया।
उन्होंने कहा, ‘मैंने उसे इस स्तर पर चुनौती नहीं दी थी। मैंने आरोनियन के खिलाफ यह रणनीति अपनाई थी जो कामयाब रही। पिछले महीने इस तरह के मैच खेलना अच्छा रहा।’ आनंद ने स्वीकार किया कि कार्लसन के खिलाफ पिछले साल वह आक्रामक खेल नहीं दिखा सके थे। उन्होंने कहा, ‘मुकाबले के बाद देखने पर यह सच लगता है। मैं उसमें सहज नहीं था।’ (एजेंसी)